संभाग आयुक्त ने की स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा…

संक्रमण की रोकथाम के लिये प्रभावी उपाय किए जाएं : श्री ओझा

ग्वालियर। कोविड-19 के संक्रमण की रोकथाम के लिये चिकित्सक कार्य कर रहे हैं। चिकित्सकों का उपयोग कोविड के संक्रमण की रोकथाम के लिये बेहतर ढंग से हो, इसका प्रबंधन भी किया जाना चाहिए। जितने भी शासकीय चिकित्सक हैं उनकी भूमिका वर्तमान समय में सबसे महत्वपूर्ण हैं। संभागीय आयुक्त एम बी ओझा ने सोमवार को स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक में यह बात कही। 

मोतीहल में आयोजित समीक्षा बैठक में अपर कलेक्टर आशीष तिवारी, डीन मेडीकल कॉलेज डॉ. एस एन अयंगर, अधीक्षक जेएएच डॉ. आर एस धाकड़, संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवायें डॉ. दीक्षित सहित सिविल सर्जन, सीएमएचओ, मुख्य कार्यपालन अधिकारी लोक निर्माण विभाग, प्रभारी अधिकारी पीआईयू सेल एवं चिकित्सकगण उपस्थित थे। संभागीय आयुक्त एम बी ओझा ने बैठक में निर्देशित किया है कि जेएएच चिकित्सा समूह के आईसीयू वार्ड में किए जा रहे कार्य 25 सितम्बर तक अनिवार्यत: पूर्ण किए जाएं। 

इसके साथ ही दो दिन में लिफ्ट को चालू की जाए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि टीबी वार्ड जो कोविड के लिए तैयार किया गया है उसमें सभी 80 बैड शीघ्र कार्यशील हों, यह भी सुनिश्चित किया जाए। बैठक में जिला चिकित्सालय मुरार की व्यवस्थाओं के संबंध में भी आवश्यक निर्देश दिए गए। संभाग आयुक्त ने निर्देशित किया कि अस्पताल में साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए। 

इसके साथ ही चिकित्सकों को भी समयवार तैनात किया जाए। जिला चिकित्सालय में लोक निर्माण विभाग के माध्यम से नवीन शौचालय निर्माण का कार्य भी तत्परता से प्रारंभ किया जाए। संभाग आयुक्त श्री ओझा ने कहा है कि चिकित्सक जो अन्यत्र स्थान पर तैनात किए गए थे वे सब वापस कर दिए गए हैं। चिकित्सकों को कोविड के उपचार में ही लगाया जाए। अन्य स्थानों पर अगर कोई चिकित्सक तैनात है तो उसे भी मुक्त कर उपचार के कार्य में तैनात किया जाए।