सिंगल क्लिक से 22 लाख किसानों के खाते में पहुँचे 4686 करोड़ रुपये…

प्रदेश में कोई मंडी बन्द नहीं होगी : मुख्यमंत्री 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज उज्जैन में आयोजित कार्यक्रम में सिंगल क्लिक से प्रदेश के 22 लाख किसानों के खाते में प्रधानमंत्री फसल बीमा के 4 हजार 686 करोड़ रुपये की राशि अंतरित की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश की सरकार किसान हितैषी सरकार है और सरकार का मुख्य केन्द्र बिन्दु किसान एवं खेती है। हर परिस्थिति में सरकार किसान के साथ खड़ी है। कार्यक्रम में मौजूद किसानों एवं वेब कास्टिंग के माध्यम से जुड़े लाखों किसानों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमने सरकार में आते ही किसानों की प्रधानमंत्री फसल बीमा की पुरानी किश्त भरने का काम किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों के हित में निर्णय लिया गया है कि मध्यप्रदेश में कोई भी मंडी बन्द नहीं होगी। प्रदेश के किसान को यह सुविधा दी गई है कि वह चाहे तो अपने खेत से या अपने घर से भी अपनी उपज बेच सकता हैं। खेती को लाभ का धंधा बनाया जायेगा और माँ नर्मदा का जल मालवा क्षेत्र में लाकर रहेंगे। आगामी तीन वर्षों में सूक्ष्म सिंचाई के लिये हरित क्रान्ति समिति का गठन भी किया जायेगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि अब कोई भी किसान क्रेडिट कार्ड से वंचित नहीं रहेगा। दूध उत्पादक कृषकों के भी किसान क्रेडिट कार्ड बनाये जायेंगे। यदि कोई व्यक्ति गोवंश के लिये ऋण लेता है तो उसे जीरो प्रतिशत ब्याज पर ऋण की सुविधा उपलब्ध कराई जायेगी। स्वामित्व योजना के अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्र का सर्वे कर ग्रामीण व्यक्तियों को भू-अधिकार दिया जायेगा। वह अपने घर के माध्यम से ऋण ले सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्राकृतिक आपदा में 13 हजार लोगों की जान बचाई गई और फसल नुकसान का सर्वे किया गया। उन्होंने कहा कि सोयाबीन, उड़द एवं मक्का की फसल में जो नुकसान हुआ है, उसकी भरपाई की जायेगी, चाहे इसके लिये कहीं से भी उधारी लेनी पड़े। प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत का संकल्प लिया है और हमने आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश का संकल्प लिया है। आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश किसानों के सहयोग से ही बन सकेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीदी कभी बन्द नहीं की जायेगी।

प्रधानमंत्री फसल बीमा वितरण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वेब कास्टिंग के माध्यम से खंडवा, सागर एवं धार के किसानों से सीधे बातचीत की एवं उनके खाते में फसल बीमा राशि डालने की जानकारी के बारे में पूछताछ की। धार के कृषक श्री तरूण ने कहा कि उनके पास छह हेक्टेयर जमीन है और 90 हजार 164 रुपये बीमे का मिला है। मुख्यमंत्री को जब पता लगा कि श्री तरूण की चार बेटियां हैं तो उन्होंने कहा कि बेटियों को अच्छे से शिक्षा देना। आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने उज्जैन जिले के छह किसानों को खरीफ-2019 की फसल बीमा राशि के भुगतान का प्रमाण-पत्र वितरित किया। मुख्यमंत्री ने जयरामपुरा के बद्रीलाल को तीन लाख 13 हजार रुपये की राशि का प्रमाण-पत्र वितरित किया। 

इसी क्रम में तालोद के अर्जुनसिंह रघुवंशी को तीन लाख 66 हजार 24 रुपये का, जलवा के जालमसिंह सोलंकी को तीन लाख 50 हजार 60 रुपये का, उमरिया के बनेसिंह को तीन लाख दो हजार 49 रुपये का, जवासिया के करणसिंह को 66 हजार 605 रुपये तथा लिघोड़ा के आत्माराम को एक लाख छह हजार रुपये की राशि के प्रमाण-पत्र वितरित किये। कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद अनिल फिरोजिया, विधायक पारस जैन, बहादुरसिंह चौहान, विवेक जोशी, बहादुरसिंह बोरमुंडला, प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी, संभागायुक्त आनन्द कुमार शर्मा, आईजी राकेश गुप्ता, कलेक्टर आशीष सिंह सहित गणमान्य अतिथि एवं कृषकगण मौजूद थे। कार्यक्रम में प्रमुख सचिव कृषि अजीत केसरी ने आभार प्रकट किया।