फिलहाल करीब एक साल तक…

सोनिया गांधी ही रहेंगी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष

नई दिल्ली। सोनिया गांधी फिलहाल कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष बनी रहेंगी. पार्टी में नया अध्यक्ष चुने जाने तक उन्होंने इस पद पर बने रहना स्वीकार कर लिया है. सोमवार को हुई कांग्रेस कार्य समिति की बैठक में उन्होंने इस पद से हटने की बात कही थी. जिसके बाद वरिष्ठ नेताओं ने वैकल्पिक व्यवस्था होने तक इस पद पर बने रहने का आग्रह किया था. जानकारी के मुताबिक सोनिया गांधी का कार्यकाल करीब एक साल का होगा. अगले साल पार्टी का अधिवेशन होना है. जिसमें नये अध्यक्ष और अन्य पदों पर फैसला हो सकता है. तब तक पार्टी का सारा जिम्मा सोनिया गांधी और CWC संभालती रहेगी. बता दें कि कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी में आतंरिक सुधार और ज्यादा क्षमतावान अध्यक्ष चुने जाने की मांग को लेकर सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी. जिसके बाद सोनिया गांधी ने सोमवार को CWC की ऑनलाइन बैठक बुलाई थी.  

इस बैठक के दौरान सोनिया गांधी ने कहा था कि वो अब पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष नहीं रहना चाहती हैं. इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, एके एंटनी समेत कई नेताओं ने कोई व्यवस्था होने तक इस पद को न छोड़ने का आग्रह किया था. दरअसल नए अध्यक्ष को चुनने की प्रक्रिया में कुछ महीनों का वक्त लगेगा. अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया लंबी होगी.  सात घंटे चली बैठक में अपने भाषण के दौरान राहुल गांधी ने भावुक अंदाज में कहा,  "घटनाक्रम (सोनिया गांधी की बीमारी के वक्त सीनियर नेताओं द्वारा चिट्ठी लिखने और जवाब के लिए रिमाइंडर भेजने) से मैं आहत हुआ, आखिर मैं बेटा हूं.' 

सूत्रों के मुताबिक सोनिया गांधी ने कहा जिन्होंने लेटर लिखा उनके ख़िलाफ़ कोई दुर्भावना नहीं नहीं है. सूत्रों के मुताबिक CWC में नए अध्यक्ष के चुनाव के लिए 1 साल का समय निर्धारित किया जा रहा था लेकिन राहुल गांधी और प्रियंका ने कहा इतना लंबा समय नहीं लेना है. ये प्रक्रिया 6 महीने में शुरू की जाए. राजीव सातव ने CWC में यूपीए सरकार के दौरान मंत्री रहे आज़ाद और आनंद शर्मा पर निशाना साधा. CWC में भूपेंद्र हूडा ने कहा पार्टी के अंदर सबकी बात सुनी जानी चाहिए. कांग्रेसी संविधान के मुताबिक भी अध्यक्ष के चुनाव के लिए तय प्रक्रिया होती है और उस प्रक्रिया से जो व्यक्ति अध्यक्ष चुना जाता है, अधिवेशन बुलाकर एआईसीसी सदस्य से उसके नाम पर स्वीकृति ली जाती है, अधिवेशन में देश के हर राज्य से कांग्रेस के एआईसीसी सदस्य शामिल होते हैं.