राजनीतिक गठजोड़ को लेकर कसा तंज…
राजनीतिक दहेज प्रताड़ना कहीं तलाक का कारण ना बन जाये : पारुल साहू

शिवराज मंत्रिमंडल में विभाग बंटवारे को लेकर खींचतान तेज हो गई है। विभागों के बंटवारे के मुद्दे पर बीजेपी और ज्योतिरादित्य सिंधिया खेमे में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार में भी ज्योतिरादित्य खेमे का असर साफ़ तौर पर देखा गया जिसे लेकर भाजपा के कुछ नेताओं में भी असंतोष देखा जा रहा है। विभागों को लेकर चल रही खींचतान पर भाजपा की ही पूर्व विधायक पारुल साहू ने भी इस राजनीतिक गठजोड़ को लेकर तंज कसा है। उनका कहना है कि 'यदि सिंधिया के कहने पर उनके खेमे के मंत्रियों को मलाईदार विभाग दिए जाते हैं तो ये राजनीतिक दहेज प्रताड़ना कहीं तलाक का कारण ना बन जाये। 

साथ ही उन्होंने सीएम शिवराज सिंह के लिए निर्णय लेने में पूर्ण स्वतन्त्रता की भी मांग कर डाली। पूर्व बीजेपी विधायक पारुल साहू ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर लिखा है कि ये राजनीतिक दहेज़ प्रताड़ना कहीं तलाक का कारण ना बन जाये, मेरा शीर्ष नेतृत्व से निवेदन है कि जननायक मुख्यमंत्री शिवराज जी के प्रति आमजन में लगाव और सम्मान को इस तरह धूमिल नहीं किया जाये। उनके अनुभव, पार्टी के प्रति निष्ठा और कार्यकर्ताओं की भावना अनुरूप कोई भी निर्णय लेने के लिये आदरणीय मुख्यमंत्री जी को पूर्ण स्वतंत्रता दी जाये। 

उन्होंने अपनी पोस्ट के आखिर में सिंधिया खेमे के मंत्रियों को मलाईदार विभाग देने की आ रही खबर राजनीतिक गलियारों में इस बात को लेकर खबर आ रही है कि मंत्रिमंडल विस्तार होने के बाद विभागों का बंटवारा इसलिए नहीं हो पा रहा है, क्योंकि ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने खेमे के मंत्रियों को मलाईदार विभाग दिलाना चाहते हैं। खबर यहां तक आ रही है कि सिंधिया ने अपने खेमे के किस मंत्री को कौन सा विभाग दिया जाए। इस बात की जानकारी भी पहुंचाई है।