अंचल में दो मरीजों की मौत, 3720 कोरोना संक्रमित…
ग्वालियर जिला कांग्रेस अध्यक्ष सहित 52 नए पॉजिटिव

अंचल में कोरोना संक्रमण का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को जारी रिपोर्ट में ग्वालियर में शहर जिला कांग्रेस के अध्यक्ष डॉ. देवेंद्र शर्मा सहित 52 नए मरीज पाए गए हैं। इनमें से वायरोलॉजिकल लैब में 35, ट्रूनेट में 10, सीबीनेट में दो और निजी लैब की जांच में पांच लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। जबकि 89 मरीजों के स्वस्थ होने से अस्पताल से छुट्टी कर दी गई है।

कोरोना से दो लोगों की मौत भी हुई है। इनमें एक गोपाल सिंह तोमर (48) मुरैना जिले के पोरसा के बुधारा गांव का रहने वाला था। पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के संक्रमण के शिकार चार लोग सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में दम तोड़ चुके हैं। इसमें ग्वालियर के सुनील कुशवाह की मौत गुरुवार रात, झांसी की रमा गुप्ता की मौत सुबह हुई थी। जबकि गिरीश कुमार की मौत शुक्रवार शाम को हुई।

दतिया - जिले में तीन नए कोरोना पॉजिटिव के साथ अब कुल कोरोना मरीजों की संख्या 114 पर पहुंच गई है। 156 सैंपल रिपोर्ट में उमाशंकर मिश्रा निवासी माली वाली गली, नवलकिशोर राजपूत निवासी तिगराकला और रिछरा फाटक निवासी अमन कुरैशी पॉजिटिव आए। जिले में वर्तमान में 59 कोरोना मरीज आइसोलेशन में हैं।

श्योपुर - जिले में 11 नए कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें मुरैना से लौटे एक ही परिवार के सात लोग शामिल हैं। जिले में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 148 हो गई है।

शिवपुरी - यहां शुक्रवार को सात लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव निकली हैं। जिसमें 82 साल की लीलादेवी भी हैं। नरवर में मत्स्य विभाग के अधिकारी अब्दुल रहमान की रिपोर्ट पॉजिटव आने के बाद उनके संग रहने वाला चपरासी भी संक्रमित निकला है।

भिंड - जिले में 11 नए पॉजिटिव मिले हैं। इनमें देहात थाने के दो सिपाही भी शामिल हैं। इस प्रकार से जिले में कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 411 हो गई है।

मुरैना - जिले में शुक्रवार काे जीअारएमसी से 1147 सैंपल की रिपोर्ट में 28 पॉजिटिव आए हैं। जबकि सीबीनेट की रिपोर्ट में 1 पॉजिटिव मिला। अब जीअारएमसी से 1722, इंदौर की निजी लैब से 913 और डीआरडीई से 188 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है। यानी कुल 2823 सैंपल की रिपाेर्ट अभी पेंडिंग है। यह हाल तब है, जब शुक्रवार को जिले में कई जगह सैंपल लेने वाली किट खत्म हो गई। इससे कई लोगों को बगैर सैंपल दिए वापस लौटना पड़ा।