मकसद पूरा नहीं हो पाया तो की खास मीटिंग…
'पिंजरा तोड़' ग्रुप की महिलाएं निकलीं एंटी CAA दंगों की मास्टरमाइंड

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल ने जाफराबाद में हुए दंगों के मामले में पिंजरा तोड़ की मेंबर नताशा को UAPA एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है. स्पेशल सेल नताशा से पूछताछ कर रही है. सूत्रों के मुताबिक, पूछताछ में पता चला है कि नताशा पर जाफराबाद में दंगों की साजिश को रचने की जिम्मेदारी दी गई थी. एंटी CAA प्रोटेस्ट को लेकर महिलाओं को भड़काने और जगह जगह सुनियोजित तरीके से ऐसे प्रदर्शन शुरू करवाने में पिंजरा तोड़ ग्रुप की अहम भूमिका निकली, नताशा और देवांगना की PFI के कई लोगों समेत दंगों से जुड़े लोगों के साथ कई बार मीटिंग हुई जिसमें नताशा और देवांगना समेत दूसरे पिंजरा तोड़ के लोगों को भावनाए भड़काने और माहौल गरम करने को बोला गया.

एंटी CAA प्रोटेस्ट जब लंबा हो गया और इनका मकसद पूरा नहीं हो पाया तो एक खास मीटिंग में नताशा और देवांगना समेत दूसरे पिंजरा तोड़ के सदस्यों को नया काम सौंपा गया नताशा को जाफराबाद दंगों की साजिश रचने की जिम्मेदारी दी गई. इसी तरह दूसरी पिंजरा तोड़ लड़कियों को दिल्ली के अलग अलग हिस्सों में ऐसी ही जिम्मेदारियां दी गई इनका काम इलाके की महिलाओं को भड़काने के अलावा उनमें पुलिस प्रशासन को लेकर डर पैदा करना और भरोसा खत्म करना था जिसके लिए अफवाहें फैलाई गईं और इसी के चलते पुलिस अधिकारियों और टीम पर दंगो में हमला हुआ.

 पिंजरा तोड़ का काम दंगो के लिए स्थानीय लॉजिस्टिक सप्लाई करने वालों की मुलाकात महिलाओं से करवाना भी था. इस पूरे खेल में मोटी फंडिंग हुई थी. दिल्ली दंगे और एंटी CAA प्रोटेस्ट और पिंजरा तोड़ को होने वाली फंडिंग के सोर्स एक ही हैं पुलिस अब पूछताछ में मीटिंग्स के डिटेल्स और मीटिंग्स में मौजूद लोगों के बारे में जानकारी जुटा रही है. पूछताछ में एक अहम जानकारी सामने आई है कि पिंजरा तोड़ ग्रुप में सिर्फ लड़कियां ही नहीं, लड़के भी शामिल हैं जिनका रोल दिल्ली दंगों और पूरी साजिश में रहा है. इनके बारे में भी पुलिस जानकारी जुटा रही है. क्राइम ब्रांच ने दरियागंज में पुलिस पर पथराव और आगजनी के मामले में भी नताशा और देवांगना को गिरफ्तार किया है.