कलेक्ट्रेट में उपस्थित जिलाधिकारियों को दिये निर्देश…
बोर्ड परीक्षाओं में अनुचित साधन का उपयोग बर्दाश्त नहीं होगा : कलेक्टर
 
मुरैना। माध्यमिक शिक्षा मण्डल भोपाल द्वारा शेष बची हायर सेकेण्डरी परीक्षायें 9 से 15 जून तक दो पालियों में संचालित होंगी। जिसमें प्रथम पाली प्रातः 9 से 12 एवं द्वितीय पाली 2 से 5 बजे तक परीक्षायें संचालित होंगी। परीक्षाओं में अनुचित साधन का उपयोग नहीं होगा। परीक्षा कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जावेगी। यह निर्देश कलेक्टर प्रियंका दास ने सोमवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में उपस्थित जिलाधिकारियों को दिये। कलेक्टर प्रियंका दास ने जिले में 68 परीक्षा केन्द्र बनायें गये है, जिनके लिये कांपियां एवं पेपर थाने से लेने के लिये कलेक्टर प्रतिनिधि के रूप में अधिकारी तैनात किये गये है। 

जिसमें अधिकतर आरआई स्तर के अधिकारी लगाये गये है। कांपियां, पेपर लेते समय पेपर जिस विषय है, उसी विषय के पेपर को लिया जाये। पेपर लीक हुआ तो संबंधित अधिकारी के विरूद्ध सख्त कार्रवाही होगी। उन्होंने कहा कि बोर्ड के नियम के तहत 25 से 28 मई तक कोविड-19 के कारण शासन के निर्देश थे कि जो छात्र जहां पर है, वह उसी बोर्ड परीक्षा केन्द्र पर पहुंचकर परीक्षा दे सकता है। इसके लिये आॅप्सन दिये गये थे। जिसमें छात्रों की सहुलियत के हिसाब से उन्हें निवासरत स्थान के आसपास परीक्षा सेन्टर दिया गया है। इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत तरूण भटनागर, अपर कलेक्टर एसके मिश्रा, समस्त एसडीएम, नगर निगम सहित संबंधित जिलाधिकारी, तहसीलदार, जनपद सीईओ आदि उपस्थित थे।  

कलेक्टर ने कहा कि कोविड-19 को देखते हुये परीक्षा केन्द्रों पर थर्मल स्क्रीनिंग, सोशल डिस्टेंस, सैनेटाइजर और छाया का प्रबंध किया जाये। परीक्षा केन्द्र पर परीक्षार्थी परीक्षा नियम के तहत समय से पूर्व केन्द्र पर उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि जनपद सीईओ, एसडीएम, तहसीलदार स्तर के अधिकारी अपनी-अपनी गाड़ियों में मास्क अतिरिक्त संख्या में रखेंगे। कोई भी छात्र बिना मास्क के परीक्षा देने आता है तो उस छात्र को परीक्षा देने से पहले मास्क उपलब्ध करायेंगे। उन्होंने कहा कि कोई छात्र कंटेनमेंट एरिया से परीक्षा देने आता है तो उस छात्र को अतिरिक्त कक्ष उपलब्ध कराया जाये। उन्होंने डीईओ को ट्रायवल को निर्देश दिये कि कई छात्रावास क्वारंटाइन के लिये उपयोग किये गये है, उनमें छात्र आकर न रहे। अगर कोई छात्र कोरोना पाॅजीटिव है तो उसे सप्लीमेन्ट्री की परीक्षा में सम्मिलित कर परीक्षा कराई जावेगी। उन्होंने कहा कि प्रत्येक परीक्षा केन्द्र को सैनेटाइज किया जावे।