चंबल कमिश्नर ने किया कार्यालयों का औचक निरीक्षण…
सभी कार्यालय में शत्प्रतिशत रहे कर्मचारियों की उपस्थिति : श्री मिश्रा

मुरैना।  चंबल संभाग के कमिश्नर रविन्द्र कुमार मिश्रा ने बुधवार को चंबल भवन में स्थित सभी संभागीय कार्यालयों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान 79 अधिकारी, कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। इनमें अधीक्षण यंत्री लोअर चंबल मंडल के 9, अधीक्षण यंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी के 11, संयुक्त आयुक्त सहकारिता के 13, सहायक श्रमायुक्त के 5, संयुक्त संचालक कृषि के 5, अधीक्षण यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के 7, मध्यप्रदेश शहरी विकास के 9 और कार्यालय सहायक आयुक्त सहकारिता के 10 अधिकारी, कर्मचारी अनुपस्थित पाये गये। इन सभी को कारण बताओ नोटिस जारी किये जा रहे है। 

चंबल कमिश्नर श्री मिश्रा ने संभागीय अधिकारियों सहित मुरैना, भिण्ड और श्योपुर के जिलाधिकारियों को निर्देश दिये है कि लाॅकडाउन अब पूरी तरह खुल गया है। कार्यालय में अधीनस्थ अधिकारियों, कर्मचारियों की उपस्थिति सुनिश्चित होना चाहिये। सभी कर्मचारी समय पर कार्यालय मंे उपस्थित हो, ऐसे मैदानी अधिकारी, कर्मचारी जो भ्रमण पर रहते है, उनके पूर्व से टूर प्रोग्राम अनुमोदित होना चाहिये। उन्होंने ग्रामीण विकास विभाग से जुड़े सभी अधिकारियों से कहा है कि सभी विकास कार्य तीव्र गति से चालू रहना चाहिये। जिले में प्रवासी मजदूर सहित बाहर से आये मजदूरों का श्रम सिद्धी अभियान में पंजीयन करके उन्हें रोजगार से जोड़ जाये। किसी भी स्थिति में मजदूर बेरोजगार नहीं रहे। इसी तरह जन्नोनमुखी योजनाओं एवं कार्यों में लोंगो को लाभान्वित किया जाये। आम आदमी को किसी भी तरह की परेशानी नहीं रहे। 

उनकी समस्याओं का मौके पर ही हल करें। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के मैदानी अमला पेयजल व्यवस्थाओं को सुनिश्चित करें। कहीं पर भी पेयजल की समस्या नहीं रहे। जहां पेयजल के स्त्रोत सूख गये है वहां पेयजल की बैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। स्वास्थ्य विभाग का अमला विभिन्न तरह की मौसमी बीमारियों, वर्षा जनित बीमारियों के प्रति सचेत रहे। जहां से भी बीमारी की सूचना मिले। वहां तत्काल टीम भेजकर उपचार व्यवस्था सुनिश्चित करें। इसी तरह पशु चिकित्सा एवं पशुपालन विभाग भी पशुओं के उपचार उनके टीकाकरण करने के लिये मुहिम चलायें। कमिश्नर ने कहा कि हर अधिकारी, कर्मचारी के अपने दायित्व होते है वे निष्ठा निराकरण के साथ पालन करें। शासकीय कार्यों में लापपरवाही उदासीनता बरदास्त नहीं होगी। सभी कर्मचारी, अधिकारी समय पर कार्यालय में आना सुनिश्चित करें।