संभाग आयुक्त ने की स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा…
सभी जिलों में फीवर क्लीनिक तत्परता से प्रारंभ किए जाएं : श्री ओझा 

ग्वालियर। नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये संभाग के सभी जिलों में जन जागृति अभियान चलाया जायेगा। संक्रमण से लोग डरें नहीं, लेकिन सावधानी जरूर बरतें। आयुक्त कार्यालय मोतीमहल में संभागीय आयुक्त एम बी ओझा ने नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये किए जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए यह निर्देश दिए हैं। नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिये संभाग के सभी जिलों में कार्य किया जा रहा है। संक्रमण की रोकथाम के लिये जन जागृति अति आवश्यक है। बैठक में संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवायें डॉ. ए के दीक्षित, सीएमएचओ डॉ. एस के वर्मा सहित मेडीकल कॉलेज के चिकित्सक एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। 

संभाग आयुक्त श्री ओझा ने समीक्षा के दौरान यह भी निर्देशित किया कि संभाग के सभी जिलों में फीवर क्लीनिक तत्परता से चालू करने की कार्रवाई की जाए। फीवर क्लीनिकों के संचालन को प्रभावी रूप से लिया जाए। इसके साथ ही फीवर क्लीनिकों के संबंध में व्यापक प्रचार-प्रसार कर आमजनों को कोई भी दिक्कत होने पर फीवर क्लीनिक में संपर्क करने की समझाइश भी दी जाए। उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों से भी कहा है कि वे अपने-अपने जिलों में बाहर से आने वाले प्रत्येक व्यक्तियों का पंजीयन कर उसकी सम्पूर्ण जानकारी अपने पास रखें। जिलों में सर्वेक्षण का कार्य भी प्राथमिकता से कराया जाए। 

सर्वेक्षण में जो भी व्यक्ति नोवेल कोरोना की बीमारी से संदिग्ध पाया जाता है, तो उसकी जाँच अवश्य कराई जाए। संभाग आयुक्त एम बी ओझा ने यह भी कहा है कि संभाग के सभी जिलों में जितने भी केन्टोनमेंट क्षेत्र घोषित किए गए हैं उनकी सतत निगरानी की जाए। केन्टोनमेंट क्षेत्र के निवासी क्षेत्र में भी गतिविधियां संचालित न करें, इस पर भी निगरानी की जाए। इसके साथ ही सभी जिलों में जन जागरूकता के लिये गठित की गई वार्ड समितियों को भी और सशक्त बनाकर जन जागृति का कार्य किया जाए।