श्री सिंह ने स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में दिए निर्देश…
डिजिटल लर्निंग प्रोग्राम के तहत वॉट्सएप के माध्यम से शिक्षा की व्यवस्था करें : कलेक्टर

ग्वालियर। डिजिटल लर्निंग प्रोग्राम के तहत अधिक से अधिक बच्चों एवं उनके पालकों को वॉट्सएप ग्रुप से जोड़कर उन्हें नियमित शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराएं, जिसका मूल्यांकन भी किया जाए। यह निर्देश कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने स्कूल शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुए जिला शिक्षा अधिकारी एवं डीपीसी को दिए। कलेक्टर श्री सिंह बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में स्कूली शिक्षा विभाग द्वारा संचालित गतिविधियों की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी शिवम वर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी विकास जोशी, डीपीसी संजीव शर्मा सहित समस्त एडीपीसी बीईओ बीआरसी आदि उपस्थित थे। 

कलेक्टर श्री सिंह ने स्कूलों में संचालित होने वाली गतिविधियों एवं कक्षा-12 की बोर्ड परीक्षा के शेष रहे विषयों की आयोजित होने वाली परीक्षाओं की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि परीक्षा के पूर्व परीक्षा कक्ष पूर्ण रूप से सेनेटाइज हो तथा छात्र-छात्राएं परीक्षा के दौरान मास्क का उपयोग करें तथा सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा जाए। कलेक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सभी परीक्षा केन्द्रों का निरीक्षण कर सम्पूर्ण व्यवस्था भी सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि स्कूलों के शौचालय क्रियाशील रहने के साथ साफ-सुथरे भी रहें। 

प्रत्येक जन शिक्षा केन्द्र का स्वच्छता प्लान तैयार कर शौचालयों की नियमित साफ-सफाई हेतु मानदेय पर एक स्वच्छता मित्र के रूप में भी एक व्यक्ति की सेवायें लें। श्री सिंह ने कहा कि डिजिटल लर्निंग कार्यक्रम के तहत अधिक से अधिक छात्र-छात्राओं के साथ उनके पालकों को वॉट्सएप ग्रुप से जोड़कर उन्हें नियमित शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराएं तथा इसका मूल्यांकन भी करें। उन्होंने निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों के ऐसे बच्चे जिनके पास स्मार्ट फोन नहीं हैं ऐसी स्थिति में वहां पर पदस्थ शिक्षक 5 – 5 बच्चों के समूहों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शिक्षण व्यवस्था सुनिश्चित करें।