ग्वालियर वन मंडल के डीएफओ अभिनव पल्लव ने बताया कि…
वन विभाग ने रेलवे को भेजा दिया 3.68 करोड़ का रिकवरी नोटिस

ग्वालियर: वन विभाग से अनुमति के बिना रेलवे विभाग ने ग्वालियर-झांसी के बीच सिथौली-आंतरी जंगल में पटरी बिछाने के लिए मिट्टी खोद दी. इसकी खबर वन विभाग के अधिकारियों को लगी तो उन्होंने मामले की जांच बिठा दी. जांच के बाद वन विभाग ने रेलवे को 3.68 करोड़ रुपये का रिकवरी नोटिस भेज दिया है. वहीं इस मामले में अभी तक रेलवे विभाग की तरफ से कोई बयान नहीं आया है.

ग्वालियर वन मंडल के डीएफओ अभिनव पल्लव ने बताया कि रेलवे विभाग को बिना अनुमति के मुरम खोदने पर जांच के बाद रिकवरी नोटिस भेजा गया है. साथ ही अनदेखी करने वाले वन विभाग के 11 कर्मचारियों पर भी आरोप पत्र दायर किया गया है. उन्होंने कहा कि बीते दिनों रेलवे लाइन बिछाने वाली रेलवे की एक एजेंसी ने मिट्टी और मुरम की खुदाई की थी. सूचना मिलने पर जांच के लिए एक कमिटी गठित की गई थी, जिसके बाद यह फैसला लिया गया है.

डीएफओ अभिनव पल्लव ने बताया कि रेलवे विभाग की तरफ से 'फॉरेस्ट कंजर्वेशन एक्ट' आवेदन किया गया था. लेकिन मंजूरी नहीं दी गई थी. उन्होंने कहा कि जांच दल ने आकलन किया है कि रेलवे ने करीब 106096 घनमीटर मिट्टी ओर मुरम का उत्खनन किया है. मुरम का 500 रुपए और मिट्टी का 125 रुपए घनमीटर के हिसाब  3.68 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है.