तेरे दर्द से दिल आबाद रहा, कुछ भूल गए कुछ याद रहा…

नहीं रहे बॉलीवुड के "चिंटू"


नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा के मशहूर अदाकार ऋषि कपूर का मुंबई के चंदनवाड़ी शमशान घाट पर इलेक्ट्रिक शवदाह गृह में अंतिम संस्कार हुआ. उनके बेटे और अभिनेता रनबीर कपूर ने अंतिम संस्कार की सारी प्रक्रिया निभाई. लॉकडाउन की वजह से पुलिस ने अंतिम संस्कार में कुछ बेहद करीबी लोगों को ही शामिल होने की इजाज़त दी. ऋषि कपूर की बेटी रिद्धिमा कपूर दिल्ली में हैं, इस वजह से वो अपने पिता के आखिरी दर्शन नहीं कर सकीं.

ऋषि कपूर को कुछ दिन पहले तबीयत बिगड़ने के चलते अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. वो बीते एक हफ्ते से दक्षिण मुम्बई के सर एच. एन. रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती थे. लेकिन आज वो कैंसर से चल रही लंबी जंग हार गए. उन्होंने सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर अपनी आखिरी सांस ली. वो करीब दो साल से कैंसर से जूझ रहे थे. ऋषि कपूर अपने इलाज के लिए 11 महीने से ज्यादा वक्त तक न्ययॉर्क में रहे थे.

कौन कौन शामिल हुआ?
ऋषि कपूर के अंतिम संस्कार में उनके परिवार के लगभग सभी लोग मौजूद रहे. इनमें भतीजी करीन कपूर, सैफ अली खान, भांजे अरमान जैन, कुनाल कपूर, बेटे रनबीर कपूर, पत्नी नीतू कपूर, भाई रणधीर कपूर. इनके अलावा अंतिम संस्कार के समय आलिआ भट्ट, अभिषेक बच्चन, ऐश्वर्या राय बच्चन जैसे करीबी लोग भी मौजूद रहे.

परिवार के बयान में कही गई ये बात
ऋषि कपूर की मौत पर उनके परिवार की ओर से एक बयान सामने आया. कपूर परिवार की ओर से जारी बयान में कहा गया कि उन्होंने गुरुवार सुबह आखिरी सांस ली.परिवार ने बताया कि उन्होंने बड़ी ही बहादुरी से करीब दो साल तक कैंसर से जंग लड़ी और अब इस दुनिया को अलविदा कह गए.

अपने बयान में परिवार ने कहा, ''हमारे प्यारे ऋषि कपूर ने आज सुबह 8 बजकर 45 मिनट पर शांति से इस दुनिया को अलविदा कहा. उन्होंने करीब दो साल तक ल्यूकेमिया से बड़ी बहादुरी से जंग लड़ी. डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ का कहना है कि वह आखिर तक सभी का मनोरंजन करते रहे थे. वह कैंसर से चल रही लड़ाई के दो सालों में हमेशा दृढ़ निश्चय और जिंदादिल रहे थे.''

 लंबी चली कैंसर से जंग
आपको बता दें सितंबर 2018 में ऋषि कपूर को कैंसर के बारे में पता चला था और वो इलाज के लिए अमेरिका चले गए थे. इसके बाद 3 अक्टूबर 2018 को ऋषि कपूर को कैंसर होने की खबर आई थी जिसे मीडिया से बात करते हुए उनके भाई रणधीर कपूर ने कंफर्म किया था. इसके बाद से लगातार उनका कैंसर का इलाज चल रहा था.