वीडियो कान्फ्रेंसिंग द्वारा जिला क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप से की चर्चा…
जिन्दगी के लिए जरूरी दो गज की दूरी : मंत्री श्री पटेल

भोपाल। किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि कोरोना संकट से निपटने के लिये आपस में दो गज की दूरी रखना बहुत जरूरी है। श्री पटेल वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा होशंगाबाद, जबलपुर, सागर और बुरहानपुर के कलेक्टर, जन-प्रतिनिधियों और जिला क्राईसेस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्यों से 17 मई के बाद लॉकडाउन खोलने संबंधी चर्चा कर रहे थे। उन्होंने वर्तमान और 17 मई के बाद कोरोना संकट से उत्पन्न होने वाली परिस्थितियों के दृष्टिगत आवश्यक सुझाव जन-प्रतिनिधियों से मांगे।

कृषि मंत्री श्री पटेल ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान जिलों से गुजरने वाले अन्य स्थानों और प्रांतों के श्रमिकों को आवश्यक मदद सुनिश्चित की जाए। उन्होंने विधायकों से आग्रह किया कि अपने विधानसभा क्षेत्रों की सीमाओं पर पहुँचने वाले श्रमिकों के रहने, खाने-पीने और गंतव्य स्थान तक जाने के लिये प्रशासन के सहयोग से आवश्यक प्रबंध करें। श्री पटेल ने कहा कि श्रमिक किसी भी इलाके में पैदल न चले इसका जिला प्रशासन अनिवार्य रूप से ध्यान रखें। उन्होंने निर्देश दिये कि मध्यप्रदेश से बाहर जाने वाले श्रमिकों को सीमा तक पहुँचा कर स्थानीय जिला प्रशासन के सहयोग से श्रमिकों को आगे भेजना सुनिश्चित करें। आगे जाने के लिये जरूरी प्रबंध भी किये जाएं।

श्री पटेल ने कहा कि लॉकडाउन के बाद आम जीवन सामान्य हों, इसके लिये सावधानी पूर्वक और सजगता से नियमों का पालन किया जाना चाहिए। मंत्री श्री पटेल ने कहा कि जन-प्रतिनिधियों के सुझावों के अनुसार लॉकडाउन खोले जाने संबंधी निर्णय लिये जाएंगे। बैठक में जन-प्रतिनिधियों द्वारा कन्टेनमेंट एरिया छोड़कर अन्य क्षेत्रों में छोटी दुकानों को खोलने, आवश्यकतानुसार होम डिलेवरी जारी रखने, जिलों में लौटकर आये श्रमिकों के लिये रोजगार के प्रबंध करने, अन्य प्रांतों में मजदूरी करने गये जिले के श्रमिकों को वापस लाने के लिये आवश्यक प्रबंध किये जाने संबंधी सुझाव भी दिये गये।