गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दिए संकेत...

कांग्रेस शासनकाल के कामकाज की जांच करा सकती है शिवराज सरकार!


भोपाल। शिवराज सरकार कमलनाथ के 15 महीने के मुख्यमंत्रित्व काल में हुए कामकाज की जांच कराने के मूड में है. खासतौर पर कांग्रेस सरकार के आखिरी 6 महीने के फैसलोंं की जांच कराई जा सकती है. मध्‍य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने इसके संकेत दिए हैं. उन्होंने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कहा कि कांग्रेस शासनकाल में वल्लभ भवन भ्रष्टाचार का अड्डा बन गया था.

गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में हुए भ्रष्टाचारों की जांच होगी. इसके लिए मैं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से ग्रुप ऑफ मिनिस्टर की समिति बनाने की मांग की है. उन्होंने कहा, 'पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार में मध्य प्रदेश में तबादला उद्योग पनपा था. इसमें बड़े स्तर पर लेनदेन किया गया था. इसके अलावा आखिरी समय में लिए गए फैसलों में भी भ्रष्टाचार होने की संकेत मिले हैं. ऐसे में अब शिवराज सरकार चाहती है कि पूरे मामले की जांच कर तथ्यों का पता लगाया जाए.'

शिवराज मंत्रिमंडल की शुक्रवार को हुई अनौपचारिक बैठक में इस मुद्दे को लेकर चर्चा भी की गई. मंत्रियों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से इस मुद्दे पर चर्चा की. इस बैठक में ही सुझाव आया कि ग्रुप ऑफ मिनिस्टर की एक कमिटी बनाकर कांग्रेस सरकार के 15 महीनों के कामकाज की पड़ताल की जाए.

कमलनाथ सरकार में जनसंपर्क मंत्री रहे पीसी शर्मा ने मध्य प्रदेश के मौजूदा गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बयान पर पलटवार किया. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस पार्टी किसी भी स्तर की जांच के लिए तैयार है. लेकिन शिवराज सरकार को उन मामलों की भी जांच पूरी करनी चाहिए जो कमलनाथ सरकार ने शुरू हुई थीं.'