श्रमिकों से रूबरू हुए जल संरक्षण एवं संवर्धन के कार्य...
ग्रामीण क्षेत्र का भ्रमण कर विकास कार्यों का कलेक्टर ने किया अवलोकन

ग्वालियर।  ग्रामीण क्षेत्र में श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिये मनरेगा योजना के तहत विकास के कार्य कराए जा रहे हैं। तालाब निर्माण और जल संरक्षण के कार्यों को अभियान के रूप में कराया जा रहा है। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने शुक्रवार को जनपद पंचायत घाटीगाँव के ग्रामीण क्षेत्र का भ्रमण कर विकास कार्यों का अवलोकन किया। उन्होंने श्रमिकों से भी चर्चा की। इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को रोजगार उपलब्ध हो, इसके लिये पंचायतें मनरेगा योजना के तहत विकास के कार्य हाथ में लें, यह भी निर्देश ग्रामीण विकास विभाग से जुड़े अधिकारियों को दिए। 

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने ग्रामीण क्षेत्र के भ्रमण के दौरान जनपद पंचायत बरई के कार्यालय का भी निरीक्षण किया और जनपद सीईओ से उनके क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों के संबंध में जानकारी ली। उन्होंने निर्देशित किया कि सभी ग्राम पंचायतों में जल संरक्षण एवं जल संवर्धन के कार्य हाथ में लिए जाएं। बरसात से पूर्व सभी क्षेत्रों में कार्य पूर्ण हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। पंचायतों में जरूरतमंदों को रोजगार उपलब्ध हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। कलेक्टर श्री सिंह ने ग्राम पंचायत बन्हेरी पहुँचकर पंचायत द्वारा निर्मित की जा रही गौशाला का भी अवलोकन किया। 

गौशाला निर्माण के कार्य में सहयोग कर रहे संत लोगों से भी विस्तार से चर्चा की तथा ग्राम पंचायत के सरपंच विक्रम सिंह को ग्राम पंचायत में विकास के कार्यों को तेजी के साथ पूर्ण कराने के निर्देश दिए। उन्होंने यह भी निर्देशित किया कि जो ग्रामीण जन स्वरोजगार हेतु काम करना चाहते हैं उन्हें कार्य उपलब्ध कराया जाए। श्रमिकों को समय पर भुगतान भी प्राप्त हो, यह भी सुनिश्चित किया जाए। कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने सरपंच को निर्देशित किया कि बन्हेरी में जल संरक्षण के लिये स्टाप डैम निर्माण का कार्य भी तत्काल प्रारंभ किया जाए। 

संत लोगों से चर्चा के दौरान कलेक्टर ने आश्वस्त किया कि गौशाला के निर्माण का कार्य तत्परता से पूर्ण करने के साथ-साथ गौशाला के संचालन में भी हर संभव सहयोग प्रदान किया जायेगा। उन्होंने ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों को यह भी निर्देशित किया कि ग्रामीण क्षेत्रों में किए जा रहे कार्यों में यह सुनिश्चित किया जाए कि श्रमिक नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम हेतु भी आवश्यक उपाय अवश्य करें। कार्य के दौरान सभी श्रमिक मास्क पहनकर ही कार्य करें। इसके साथ ही निर्माण कार्य स्थल पर श्रमिकों के लिये सेनेटाइजर की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। 

ग्राम पंचायत बन्हेरी के सरपंच विक्रम सिंह ने बताया कि बन्हेरी में गौशाला निर्माण के साथ-साथ रामधारा चैकडैम निर्माण, सामुदायिक नाडेप निर्माण कार्य, सामुदायिक खेल मैदान का कार्य हाथ में लिया गया है। इसके साथ ही मंदिर सरोवर रानीघाटी के पास तालाब निर्माण का कार्य भी 23 लाख 75 हजार रूपए की लागत से प्रस्तावित है। ग्राम पंचायत द्वारा कंटूरट्रेंच बराहना में 3 लाख रूपए की लागत से कराया जा रहा है।

इसके साथ ही 10 लाख रूपए की लागत से सामुदायिक भवन निर्माण का कार्य भी प्रस्तावित किया गया है।  कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बन्हेरी में ही स्थित ऐतिहासिक मंदिर का अवलोकन कर दर्शन लाभ लिए। उन्होंने संतजनों से मंदिर की रंगाई-पुताई कराने का भी आग्रह किया। सरपंच से मंदिर से लगी हुई जमीन का उपयोग गौशाला के लिये किस प्रकार किया जा सकता है, इसका प्रस्ताव भी तैयार करने के निर्देश दिए।