श्री रामराजेश्वरी सेवा संस्थान एवं सुपरस्टार संजय दत्त फ्रेंड्स क्लब ने…
सकारात्मक माहौल पैदा करने शंख बजाकर की वैश्विक ऑनलाइन कार्यक्रम की शुरुआत 

श्री रामराजेश्वरी सेवा संस्थान एवं सुपरस्टार संजय दत्त फ्रेंड्स क्लब ने ऑनलाइन शंख से शुरुआत कार्यक्रम, लॉकडाउन सकारात्मक माहौल पैदा करने के लिए शुरू किया है। आज संस्था ने इस वैश्विक ऑनलाइन कार्यक्रम के माध्यम से मीडिया कर्मियों को जोड़ा कार्यक्रम के होस्ट शंख विक्रम ने सबसे पहले शंखनाद कर उनके प्रति आभार व्यक्त किया, और कहां की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लॉक डॉन के दौरान काम करने वाले लोगों को कोरोना योद्धाओं की संज्ञा दी है l 

इन  कोरोना योद्धाओं में एक वर्ग ऐसा भी था, जो आपको एक-एक पल की, देश-विदेश के कोने कोने की खबर आप तक पहुंचा रहा था वह है हमारा पत्रकार वर्ग आपके लिए हमारे लिए खबरों की दुनिया में जा कर उन्हें आप तक पहुंचाने का काम करने वाला पत्रकार या मीडिया कर्मी किसी योद्धा से कम नहीं है. अनेक बार खबरों के लिए मोर्चे पर डटा यह योद्धा कोरोना संक्रमण का शिकार भी हुआ, लेकिन इलाज कराने के बाद फिर अपने काम में जुट गया  उनके साथ जुड़े मीडिया कर्मियों में ग्वालियर से वरिष्ठ पत्रकार  देव श्रीमाली, इंदौर के वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष द्विवेदी, वरिष्ठ पत्रकार डॉ सत्यप्रकाश, ग्वालियर के वरिष्ठ पत्रकार महेश गुप्ता, वरिष्ठ पत्रकार दिनेश राव, नव भारत के उप संपादक संजय भारद्वाज, पुणे से वरिष्ठ पत्रकार दिनकर, जी. न्यूज़ 24 के संपादक रवि यादव, पत्रकार आलोक शर्मा, अजय दुबे, देवेंद्र शिवहरे, रवि सिकरवार आदि पत्रकार शामिल हुए। 

इन सभी प्रतिष्ठित मीडिया कर्मियों ने इस कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त करते हुए शंखनाद की महिमा पर भी प्रकाश डाला एवं कोरोना से जीतने के लिए अपनी अपनी राय व्यक्त की विश्व शंखनाद कार्यक्रम से जुड़े सभी मीडिया कर्मी इस बात पर एकमत थे कि कोरोना महामारी के इस संकट के दौर में सभी लोगों को संयम बरतते हुए स्वयं को सुरक्षित रखना जरूरी है इसके साथ ही लोगों को अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा, इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने पौष्टिक खानपान के साथ योग और व्यायाम के माध्यम से अपने शरीर की रोग प्रतिकारक क्षमता को मजबूत बनाना होगा। 

योग के माध्यम से अपनी श्वसन प्रणाली को सक्षम बनाना होगा क्योंकि कोरोना विषाणु हमारे फेफड़ों और श्वसन प्रणाली पर ही हमला करता है, ऐसे में यदि हमारी श्वसन प्रणाली और फेफड़े मजबूत होंगे, तो हम संक्रमित होने के बावजूद कोरोना पर जीत प्राप्त कर सकते हैं. श्वसन प्रणाली को मजबूत करने के लिए शंखनाद एक सर्वोत्तम उपाय है. क्योंकि शंखनाद स्वयं में एक संपूर्ण प्राणायाम है, जिससे हमारी श्वास प्रणाली दुरुस्त होकर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है कार्यक्रम के अंत में शंखविक्रम ने सभी प्रतिभागी मीडिया कर्मियों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उनके सम्मान में शंखनाद किया।