JAH कैम्पस में की महिला की सनसनीखेज हत्या…
कम्पू पुलिस ने हत्या के तीन आरोपियों को जेवरात सहित किया गिरफ्तार

ग्वालियर। दिनांक 25/05/2020 को फरियादी विश्वनाथ सिंह चैहान ने रिपोर्ट किया कि कल दिनांक 24.05.2020 के रात्रि करीबन 08.00 बजे मेरी पत्नी ममता चैहान उम्र 40 साल की सिकंदर कंपू घर से बच्चे देव चैहान से यह कहकर निकली थी कि मैं बाजार जा रही हूँ लेकिन रात्रि 10.00 बजे करीबन जब घर नही पहुँची तो मेरे लडके देव ने अपनी मम्मी श्रीमती ममता से फोन लगाकर पूछा कि इतनी देर से आ रही है तब उन्होने फोन पर देव को बताया कि सराफा में हूँ अभी आ रही हूँ उसके बाद मुझे दिनांक 25.05.2020 के 01.30 बजे करीबन मुझे सूचना मिली कि मेरी पत्नी ममता चैहान को किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा जान से मारने की नियत से सिर पर पत्थर पटक दिया है मैं मिहोना में था वहा से ग्वालियर आया तब मुझे जानकारी मिली कि जेएएच डेड हाउस वाले रास्ते पर किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा जान से मारने की नियत से सिर पर पत्थर पटक कर घायल कर दिया तथा मौके से मेरी पत्नी ममता की स्कूटी भी नही मिली है मेरी पत्नी के सिर में तथा चहेरे पर एवं कानो में गहरी चोट लगी है।

रिपोर्ट पर से थाना कम्पू में अप.क्र. 2  07/2020 धारा 307 ताहि कायम कर विवेचना में लिया गया दौराने विवेचना दिनाँक 26/05/2020 को ममता चैहान की मृत्यु हो गई जिससे प्रकरण सदर में धारा 302 ताहि इजाफा की गई। आरोपीगण अज्ञात घटना समय से ही फरार थे। उक्त जघन्य मर्डर को पुलिस अधीक्षक महोदय ग्वालियर नवनीत भसीन(भापुसे) द्वारा काफी गंभीरता से लेते हुये अति. पुलिस अधीक्षक महोदय शहर-पश्चिम तेन्द्र सिंह तोमर, नगर पुलिस अधीक्षक महोदय मुनीष राजौरिया के कुशल निर्देशन में थाना प्रभारी कम्पू विनय शर्मा के नेतृत्व में हत्या कर फरार अज्ञात आरोपीगणों की गिरफ्तारी  बावत् एक टीम गठित की। 

दिनांक 31/05/2020 को थाना प्रभारी विनय शर्मा को जरिये मुखविर सूचना प्राप्त हुई कि मृतिका ममता चैहान की हत्या वीरू बाल्मीक, जीतू बाल्मीक, भोलू बाल्मीक एवं कल्लू बाल्मीक द्वारा की गई है तथा विवेचना के दौरान यह ज्ञात हुआ कि आरोपी वीरू बाल्मीक से मृतिका ममता चैहान के काफी दिनों से अवैध संवंध थे और इन संवंधों की आड में मृतिका ममता चैहान, बीरू बाल्मीक को ब्लैकमेलिंग कर पैसे आदि की माँग कर रही थी जिससे आरोपी वीरू बाल्मीक काफी समय से परेशान था और जिस कारण से उसने अपने साथियों के साथ मिलकर ममता चैहान हत्याकांड को अंजाम दिया है और फरार हो गया था। मुखविर द्वारा यह भी वताया गया कि मुख्य आरोपी वीरू आज अपने 12 वीघा माधौगंज स्थित अपने घर आया हुआ है और सामान लेकर कहीं बाहर भागने की फिराक में है।

मुखविर की सूचना पर से थाना प्रभारी कम्पू मय थाना बल की टीम के साथ 12 वीघा थाना माधौगंज स्थित आरोपी वीरू बाल्मीक के निवास पर पहुँचे तो उसने पुलिस को देखकर भागने का प्रयास किया जिसे थाना बल की टीम द्वारा घेरावन्दी कर पकड़ लिया गया। मौके पर पूछताछ करने पर वीरू बाल्मीक पुत्र स्व. रघुवीर सिंह उम्र 25 साल नि. 12 वीघा वृंदावन विहार कालौनी सिकन्दर कम्पू थाना माधौगंज द्वारा उक्त घटना अपने साथीगण एवं रिष्तेदारों जीतू बाल्मीक, भोलू बाल्मीक एवं कल्लू बाल्मीक के साथ करना स्वीकार किया तथा वताया कि लगभग 06 माह पूर्व ममता चैहान उर्फ रेणू चैहान पत्नि विश्वनाथ चैहान से मेरी मुलाकात सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में उसके किसी काम से आने के दौरान हुई थी। 

ममता चैहान ने वताया था कि उसका पति विश्वनाथ चैहान मिहोना जिला भिण्ड में रहता था और वह यहाँ अपने वच्चों के साथ गौमती की फडी सिकन्दर कम्पू में अपने स्वयं के मकान में रहकर अपने वच्चों की पढाई लिखाई करा रही थी। कुछ समय वाद ममता चैहान से मेरी दोस्ती हो गई और उसके साथ मेरे शारीरिक संवंध बन गये। मैं अपने घर वालों की मर्जी से शादी करना चाहता था जिसका ममता चैहान विरोध करती थी और उसके साथ अंतर्रंग पलों में खींची गई तस्वीरों के माध्यम से मुझे ब्लैकमेल कर पैसो की मांग करती थी तथा शादी करने की कहने एवं पैसा देने की मना करने पर ममता चैहान मुझे बलात्कार के केस में फंसाने की धमकी भी देती थी। काफी परेशान होने पर मैने यह सारी बातें अपने मित्र एवं रिष्तेदारों जीतू बाल्मीक, भोलू बाल्मीक एवं कल्लू बाल्मीक को वताई थी तथा हम चारों ने एकराय होकर उसे रास्ते से हटाने का मन बना लिया था। 

दिनाँक 24/05/2020 को मैने ममता उर्फ रेणु चैहान को जेएएच परिसर में पीएम हाऊस के पास बुलाया जहाँ वह अपनी जुपीटर गाडी डच्30 डस् 4533 से आई। वहाँ मेरे साथी जीतू बाल्मीक, भोलू बाल्मीक तथा मैं सरिया लिये खडे थे कल्लू डण्डा लिये खडे थे ममता ने आते ही मुझसे शादी करने की जिद करने लगी थी और खर्चे के लिये पैसे की माँग करने लगी तव मैने उसको समझाया कि तुम्हारी और मेरी उम्र में काफी अंतर है तथा समाज अलग होने से भी मैं शादी नही कर पाऊँगा तव वह नही मानी और मुझसे कहने लगी कि चाहे तू डकैती डाल या लूट कर मुझे खर्चे के पैसे देने पडेंगे नही तो मैं अभी थाने जा रही हूँ और तुझे बलात्कार के केस मैं फंसा दूँगी। मेरे न मानने पर वह चिल्लाचैंट करने लगी जिस पर से मैने अपने तीनों साथियों को इशारा किया जो छुपकर वैठे थे। 

उन्होने लाठी एवं सरिये से तावडतोड उस पर प्रहार कर दिये। ममता के सिर से खून वहने लगा और वह गिर गई तव मैने इत्मीनान करने के लिये कि वह मर चुकी है पास पडा सीमेंट का पत्थर उठाकर उसके सिर पर मार दिया। इसके बाद तसल्ली होने पर कि ममता चैहान मर चुकी है हमने उसकी चैन उसके गले से एवं अन्य जेवरात उसके पर्स से निकाल कर पर्स वहीं कहीं फैक दिया था। आरोपीगणों की निषादेही पर वीरू बाल्मीक से सरिया एवं चैन, भोलू बाल्मीक से सरिया एवं टाप्स एवं आरोपी जीतू बाल्मीक से सरिया एवं अंगूठी जप्त की गई। प्रकरण का चैथा आरोपी कल्लू बाल्मीक पुत्र राजकुमार बाल्मीक उम्र 19 साल नि. डैड हाऊस के पीछे जेएएच कैंपस फरार है जिसकी तलाश के प्रयास किये जा रहे है। 

सराहनीय भूमिका : आरोपियों को गिरफ्तार करने में थाना प्रभारी कम्पू निरी0 विनय शर्मा, उनि भूपेन्द्र विश्वकर्मा, सउनि राजवीर सिंह मावई, आर0 केशव, इन्द्र प्रकाश, सुनील कुशवाह, प्रेम शंकर शर्मा, नरेन्द्र तोमर, अजय शर्मा तथा न0र0स0 के संयोजक संतोष राठौर की महत्वपूर्ण भूमिका रही। उपरोक्त टीम को पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा थाना प्रभारी कम्पू और उसकी टीम को उत्साहवर्धन हेतु नगद  ईनाम से पुरुस्कृत किये जाने की घोषणा की है।