सिविल सर्जन को फटकार लगाते हुये सभी व्यवस्थायें शीघ्र करने के दिये निर्देश...

नर्सिंग एवं पैरामेडीकल स्टाॅफ हौंसला न हारें मैं आपके साथ हूं : कलेक्टर


जी न्यूज़ 24 । मुरैना। कलेक्टर प्रियंका दास ने बताया कि नर्सिग एवं पैरामैडीकल स्टाफ को कोविड-19 के दौरान कार्य करने में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा था, इस प्रकार की शिकायतें नर्सिंग एवं पैरामेडीकल स्टाॅफ द्वारा अवगत कराया गया। इस पर कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सालय एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. आरसी बांदिल तथा सिविल सर्जन को फटकार लगाते हुये सभी व्यवस्थायें शीघ्र करने के निर्देश दिये है।

कलेक्टर ने कहा कि कोविड-19 संबंधी बैठक में कई बार सीएमएचओ एवं सिविल सर्जन को चिकित्सक एवं स्टाॅफ को आवश्यक सुविधायें उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गये थे, किन्तु अधिकारी द्वय द्वारा कोविड-19 के दौरान ड्यूटी कर रहे चिकित्सक, नर्सिग एवं पैरामैडिकल स्टाफ को रहने, खाने-पीने एवं अन्य आवश्यक सुविधायें मुहैया कराने में लापरवाही बरतीं जा रही थी।

स्टाॅफ एवं पैरामेडीकल स्टाॅफ द्वारा भी सीएमएचओ को बार-बार अवगत जा रहा था कि घर आने-जाने के लिये बस सुविधा में भी उपलब्ध कराई जाये, किन्तु उनके द्वारा पर्याप्त बसें उपलब्ध नहीं कराई। इन सब बातों को कलेक्टर प्रियंका दास ने गंभीरता से संज्ञान में लिया और मात्र 3 घण्टे के अंदर स्टाॅफ एवं पैरामेडीकल स्टाॅफ के लिये नील वल्र्ड स्कूल एवं आने-जाने के लिये एक और अतिरिक्त बस लगाने के निर्देश सीएमएचओ को दिये है। कलेक्टर ने कहा कि स्टाॅफ नर्स हौंसला न हारें, मैं आपके साथ हूं। 

भारत सरकार लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय एवं आयुक्त, स्वास्थ्य सेवायें म.प्र. भोपाल के आदेशानुसार व्दारा कोविड-19 को विश्व स्वास्थ्य संगठन व्दारा जन स्वास्थ्य आपदा घोषित किया गया है। प्रदेश में कोविड- 19 के मरीजों को दृष्टिगत रखते हुए इस कार्य में लगे चिकित्सक, नर्सिग एवं पैरामैडिकल स्टाफ को पी.पी.ई. किट्स एन 95 मास्क आदि प्रदाय किए जाने के निर्देश दिए गये है। शासन व्दारा इस हेतु आपको आवश्यक धनराशि भी उपलब्ध कराई गई है। 

कलेक्टर ने सीएमएचओ एवं सिविल सर्जन को निर्देश दिये है  कि कोविड-19 में लगे चिकित्सक, नर्सिग एवं पैरामैडिकल स्टाफ को पी.पी.ई. किट्स एन-95 मास्क एवं उनके ठहरने, भोजन एवं आने जाने हेतु आवश्यक व्यवस्था करना सुनिश्चित करें। ताकि इस कार्य में लगे चिकित्सक, नर्सिंग एवं पैरामैडिकल स्टाफ को किसी प्रकार की कठिनाई का सामना न करने पडे़। कलेक्टर ने कहा कि बजट की कमी नहीं है, इस संबंध मे सीएमएचओ एवं सिविल सर्जन को पूर्व में ही बजट उपलब्ध करा दिया गया है।