ग्वालियर-चंबल संभाग में…
बुधवार को 3500 से अधिक श्रमिकों को प्रदेश सरकार ने भेजा घर 

ग्वालियर। कोविड-19 के संक्रमण को रोकने हेतु देश में लागू लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न राज्यों में प्रदेश के एवं सीमावर्ती राज्यों के फँसे प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों तक पहुँचाने की व्यवस्था मध्यप्रदेश सरकार द्वारा की गई है। प्रदेश सहित अन्य राज्यों में फँसे मजदूरों को लाने का सिलसिला निरंतर जारी है। इसी क्रम में बुधवार को ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में पहुँचे लगभग 3 हजार 524 श्रमिकों को विशेष बसों में बैठाकर उनके गंतव्य स्थल तक भेजा गया। 

प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशों के तहत ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में पहुँचने वाले प्रवासी श्रमिकों की थर्मल स्क्रीनिंग, ठहरने, भोजन, चाय, नाश्ता, पेयजल आदि की व्यवस्था के साथ प्रदेश के गृह जिलों तथा पड़ोसी राज्यों की सीमाओं पर भेजने के लिये स्थानीय जिला प्रशासन द्वारा बसों के विशेष प्रबंध किए गए हैं। इन प्रवासी मजदूरों को उनके गृह जिले में भेजने के पूर्व उनके नाम, पता, मोबाइल नम्बर लेने के बाद ही रवाना किया जा रहा है। 

ग्वालियर एवं चंबल संभाग के जिलों में बुधवार को ग्वालियर संभाग के ग्वालियर जिले में 500 श्रमिकों को मालवा कॉलेज में बनाए गए राहत शिविर से विशेष बसों द्वारा रवाना किया गया। शिवपुरी जिले में 158, दतिया में 135, गुना में 69 श्रमिकों को उनके घरों तक भेजा गया है। इसी प्रकार चंबल संभाग के मुरैना जिले में 1879 श्रमिकों को, भिण्ड में 500 श्रमिकों को, श्योपुर जिले में 283 श्रमिकों को उनके घरों तक भेजने की व्यवस्था की गई है। जबकि अशोकनगर जिले में आज कोई श्रमिक नहीं आए हैं ।