कोरोना से बचाव हेतु हर के विभिन्न क्षेत्रों में…

महाविद्यालय की 10 टीमों ने 2 लाख लोगों को बांटी आयुर्वेदिक औषधि 


ग्वालियर। शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय ग्वालियर द्वारा कोरोना महामारी से बचाव हेतु महाविद्यालय की 10 टीमों के माध्यम से शहर के विभिन्न क्षेत्रों में अपनी सेवायें देकर लोगों की कोरोना से लड़ने हेतु शारीरिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु आयुर्वेद औषधि के रूप में त्रिकटु चूर्ण गुडूची घनवटी के रूप में प्रदाय की जा रही है, जबकि श्वसन तंत्र को मजबूत करने के लिये लोगों को नाक में अणु का तेल उपयोग करने की सलाह दी गई है।

शासकीय आयुर्वेद महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. महेश शर्मा ने बताया कि महाविद्यालय की 10 टीमें शहर में विभिन्न क्षेत्रों में जाकर अपनी सेवायें दे रही हैं। अभी तक लगभग 2 लाख व्यक्तियों को रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने हेतु नि:शुल्क आयुर्वेदिक दवाओं का वितरण किया गया है।

उन्होंने बताया कि स्थानीय स्तर पर महाविद्यालय में अधीक्षक स्तर पर डॉ. सुश्रुत कनौजिया तथा बाल रोग विभागाध्यक्ष डॉ. रितेश कुमार वर्मा को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

डॉ. कनौजिया ने बताया कि कोरोना एक संक्रामक विषाणु जनित बीमारी है, जिससे व्यक्ति में पूर्व से उपस्थित रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिये आयुर्वेदिक औषधियों का उपयोग किया जा सकता है। जिसमें मुख्य रूप से त्रिकटु चूर्ण, गुडूची घनवटी तथा श्वसन तंत्र को मजबूत करने के लिये नाक में अणु तेल काफी लाभदायक है।