मुरैना में सामान्य गतिविधियां रहीं तो…

३ मई के बाद बाजार खोलने में रिलेक्स दिया जा सकता है : कलेक्टर 


मुरैना। कोरोना वायरस संक्रमण के बचाव हेतु प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान द्वारा वीडियो काॅन्फेंस में जनप्रतिनिधियों एवं प्रशासनिक अधिकारियों के साथ जिला स्तरीय संकट प्रबंधन समूह की बैठक करने के निर्देश कलेक्टरों को दिये थे। इस संबंध में कलेक्टर श्रीमती प्रियंका दास ने गुरूवार को सायं 4 बजे कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक आयोजित की थी। जिसमें कलेक्टर श्रीमती दास ने कहा कि मुरैना में सामान्य गतिविधियां रहीं तो 3 मई के बाद मुरैना जिले में रिलेक्स दिया जा सकता है।

किन्तु यह तभी संभव होगा जबकि कोरोना पाॅजीटिव केस नहीं मिलेंगे। अगर पाॅजीटिव मरीज निकलते है तो पुनः मुरैना जिले में कफ्र्यू एवं सम्पूर्ण लाॅकडाउन सख्ती से पालन किया जायेगा। इस अवसर पर समस्त जनप्रतिनिधियों ने अपने-अपने सुझाव भी प्रस्तुत किये। इस अवसर पर महापौर अशोक अर्गल, विधायक सबलगढ़ बैजनाथ कुशवाह, पूर्व विधायक एवं मंत्री रूस्तम सिंह, पूर्व विधायक सत्यपाल सिंह सिकरवार, रघुराज सिंह कंषाना, सूवेदार सिंह रजौधा, बलवीर सिंह डण्डोतिया, भाजपा जिलाध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता, पुलिस अधीक्षक डाॅ. असित यादव, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत तरूण भटनागर, अपर कलेक्टर एसके मिश्रा, नगर निगम, पीएचई, शिक्षा, सीएमएचओ, होमगार्ड, खाद्य सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर श्रीमती दास ने कहा कि सांसद नरेन्द्र सिंह तोमर द्वारा दूरभाष पर हुई चर्चा के अनुसार उन्होंने बताया कि 3 मई को लाॅकडाउन खुलता है तो मुरैना को चरणबद्ध तरीके से धीरे-धीरे खुलवाया जाये। सभी दुकानों को एक साथ न खुलवायें। उन्होंने कहा कि जिले में बाहरी राज्यों एवं प्रदेशों के अन्य जिलों से मजदूर आ रहे है और जो लोग अन्य जिलों में फंसे हुये है उनका शासन पूरी तरह से ध्यान रख रहा है। जो लोग मुरैना में आ चुके है या बाहर फंसे है उनको शासन के निर्देशानुसार अभी तक 655 मजदूरों को एक-एक हजार रूपये उनके खाते में जमा कराये जा चुके है।

भले ही जो मजदूर मुरैना आ चुके है यह राशि उनके खाते में भी पहुंच चुकी होगी। खाता गलत होना या सर्वर न मिलना तो बायचांस कोई खाता ऐसा बचा होगा जिसके खाते में राशि नहीं पहुंच पाई हो। उसके लिये भी अधिकारी लगातार पर्यासरत है। रही बाजार खुलने की तो आवश्यकतानुसार भवन निर्माण सामग्री में रिलेक्स देने की जरूरत है। बैठक में सबलगढ़ विधायक बैजनाथ कुशवाह ने कहा कि मुरैना कोरोना मुक्त है, प्रशासन सुविधा के हिसाब से बाजार खुलवायें। बैठक में पूर्व विधायक एवं मंत्री रूस्तम सिंह ने कहा कि बैसे तो कलेक्टर एवं पुलिस अधीक्षक ने बहुत अच्छा कार्य किया है, देश के प्रधानमंत्री की भी विदेशों में सराहना की जा रही है।

3 मई को अगर लाॅकडाउन खुलता है तो बाजार को बहुत आवश्यक हो तो तभी दुकानों को खुलने की अनुमति दी जावे। महापौर अशोक अर्गल ने बिल्डिंग मेटेरियल की अनुमति देने की बात कही। पूर्व विधायक रघुराज सिंह कंषाना ने कहा कि शादी बारात की परमीशन दी जाती है तो 5-5 लोग ग्वालियर की तर्ज पर शादी घरों से घर सकते है। पूर्व विधायक सत्यपाल सिंह सिकरवार ने कहा कि इस लड़ाई में हम सभी शासन एवं प्रशासन के साथ है। गिर्राज डण्डोतिया ने कहा कि मुरैना के गुजरात जैसे शहरों में फंसे हुये है उनकी हालत खराब हैं उन्हें प्रशासन बुलवायें। भाजपा जिलाध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता ने कहा कि राशन की दुकानों के साथ-साथ लुहार गली में कृषि कार्य के उपयोग में आने वाली दुकानों को खुलवायें तो कृषि कार्य में असुविधा नहीं होगी।

इस पर कलेक्टर श्रीमती दास ने जनप्रतिनिधियों के सुझावों को एकजाई कर शासन को भेजने का आश्वासन दिया। कलेक्टर ने सभी से कहा कि ई-पास का ही उपयोग करें। जिले की सीमा के बाहर निकलने पर एसडीएम या एडीएम के पास मान्य नहीं होंगे। बेहतर यही होगा कि ई-पास का उपयोग कर रही ईलाज या दवा लेने के लिये लोग घर से निलें। पुलिस अधीक्षक डाॅ. असित यादव ने कहा कि दवाई एवं मेडीकल की दुकानें खुलना अतिआवश्यक थीं । इनके खुलने से ही शहर में आवागमन हो गया है। अगर हालात ठीक रहे तो और दुकानों को भी खुलवाने पर विचार किया जावेगा।