उपायुक्त स्वास्थ्य का व्यापक निरीक्षण…

सफाई व्यवस्था में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी: श्री चौहान


ग्वालियर । आज  सत्यपाल सिंह चौहान,उपायुक्त , स्वास्थ्य विभाग द्वारा सुबह 6:00 बजे से ही शहर की सफाई व्यव्स्था का निरीक्षण किया गया जिसमे सफाई के साथ कर्मचारियों की उपस्थिती भी चेक की गई ।

जिन वार्ड मे कर्मचारी अनुपस्थित पाये जाने पर श्री चौहान द्वारा डब्लूएचओ को निर्देश देते हुए अवगत कराया गया कि राज्य शासन द्वारा स्पष्ट निर्देश है कि सफाई व्यव्स्था मे कार्यरत कर्मचारियों का कार्य पर उपास्थित होना अनिवार्य है, इसमे किसी भी प्रकार की कोतही नही बरती जावेगी, सभी अनुपस्थित कर्मचारियो को सूचना कर कार्य पर उपास्थित करवाएं अन्यथा वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।

उपायुक्त स्वास्थ्य द्वारा मेला ग्राउंड परिसर का निरीक्षण किया गया। जिसमें गन्दगी पूर्ण रूप से साफ कराये जाने के निर्देश सम्बंधित सहायक स्वास्थ्य अधिकारी पमनानी को दिये गये। जिस पर पमनानी द्वारा अपने समक्ष मेला परिसर की सफाई करायी गई।

इसके उपरांत श्री चौहान द्वारा मुरार शमशान का निरीक्षण किया । निरीक्षण मे शमशान रोड एवं आसपास के क्षेत्र मे अत्यधिक गन्दगी पाये जाने पर  वार्ड क्र 20,21 एवं  22 के डब्लूएचओ को मौके पर बुलाया गया और स्थिति के बारे मे पूछा गया जिस पर ज्ञात हुआ कि अधिकतर गन्दगी  वार्ड 22 के  डब्लूएचओ श्री नीरज के क्षेत्र मे है उक्त स्थिति को देखते हुए श्री चौहान द्वारा डब्लूएचओ वार्ड 22 को कड़ी फटकार लगाते हुए तत्काल सफाई करने के निर्देश दिये गये एवं चेतावनी दी गई कि यदि भविष्य मे गन्दगी पायी गई तो कार्यवाही के लिये तैयार रहें।

सफाई व्यव्स्था के साथ साथ श्री चौहान द्वारा कोविड- 19 से संक्रमण वाले चिन्हित क्षेत्रों (hotspots) मे विशेष सेनिटाईजेशन कराये जाने के निर्देश देते हुए सेनिटाईजेशन व्यवस्था का भी जायजा लिया गया।

इन वार्डो का किया गया निरीक्षण 
वार्ड- 20,21,22,35,37,40,41,49,53,54 एवं 57 ।

इनका क्या कहना है -
कोविड- 19 के संक्रमण को देखते हुए आज शहर की सफाई एवं सेनिटाईजेशन व्यवस्था का व्यापक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण मे पाया कि ऐसे संकट के समय मे भी कुछ कर्मचारी कार्य से अनुपस्थित है अनुपस्थित कर्मचारियों को सूचित कर  कार्य पर बुलाने के निर्देश दिए गए हैं ताकि सफाई एवं सेनिटाईजेशन व्यवस्था सुचारु रूप से होती रहे। यदि फिर भी कर्मचारी उपास्थित नही होते है तो वैधानिक कार्यवाही की जावेगी।