संभाग आयुक्त ने अधिकारियों को दिए निर्देश…

ग्वालियर संभाग में गेहूँ उपार्जन का कार्य हुआ शुरू 


ग्वालियर। रबी विपणन वर्ष 2020-21 में शासन द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर ग्वालियर संभाग में उपार्जन का कार्य शुरू हो गया है। इस कार्य के लिये ग्वालियर संभाग में 344 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं। ग्वालियर संभाग आयुक्त एम बी ओझा ने समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन के संबंध में संभाग के सभी जिला कलेक्टर एवं इस कार्य में लगे संबंधित विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि गेहूँ उपार्जन केन्द्रों पर किसानों को छाया, पानी जैसी मूलभूत सुविधायें सहित उपार्जन केन्द्रों पर बारदाने की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जाए।

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने हेतु एक उपार्जन केन्द्र पर गेहूँ की तुलाई हेतु शुरू में 6 किसानों को ही एसएमएस भेजे जाएं। जिससे अनावश्यक रूप से किसानों की भीड़ एकत्रित न हो सके। एसएमएस प्राप्त किसानों से उपज की तौल की जाए। प्रथम पाली के रूप में प्रात: 10 बजे से दाहपर 1.30 बजे तक तीन किसानों से जबकि द्वितीय पाली में अपरान्ह 2 बजे से अपरान्ह 5.30 बजे तक तीन किसानो की उपज ली जाए। लघु एवं सीमांत कृषकों को प्राथमिकता दी जाए।

उन्होंने निर्देश दिए कि उपार्जन केन्द्र निर्धारित समय एवं नियमित रूप से संचालित रहें, जिससे किसानों को अपनी उपज की तौल हेतु अधिक समय तक केन्द्र पर इंतजार न करना पड़े। उपार्जन केन्द्रों पर आने वाले किसानों तथा केन्द्र पर कार्यरत कर्मचारी अपने चेहरे को मास्क एवं गमछे से ढककर रखें तथा किसानों एवं कर्मचारियों के मध्य न्यूनतम 3 मीटर की दूरी भी बनाई रखी जाए।

प्रत्येक केन्द्र पर नोडल अधिकारी नियुक्त कर उपार्जन की सघन मॉनीटरिंग करें। गेहूँ उपार्जन का कार्य निर्वाध रूप से जारी रहे, इसके लिये उपार्जन केन्द्रों की बल्नरेबिल्टी की मैपिंग कर बल्नरेबिल उपार्जन केन्द्रोंपर विशेष पुलिस बल की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। संभाग के अशोकनगर, दतिया एवं शिवपुरी में प्रत्येक जिले में 70 उपार्जन केन्द्र जबकि गुना एवं ग्वालियर जिले प्रत्येक में 67 उपार्जन केन्द्र बनाए गए हैं।