राज्य सरकार द्वारा गाइडलाइन जारी…

3 जिलों को छोड़कर मध्यप्रदेश में कल से शुरू होगी गेहूं की खरीद


भोपाल। लॉकडाउन के दूसरे चरण के बीच प्रदेश सरकार बुधवार यानी 15 अप्रैल से गेहूं की सरकारी खरीद शुरू करने जा रही है. 3 जिलों को छोड़कर शुरू हो रही गेहूं खरीद प्रक्रिया को लेकर कृषि समेत खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने तैयारियां पूरी कर ली हैं. इस साल किसानों का गेहूं 1925 रुपए प्रति क्विंटल के भाव से खरीदा जाएगा.

राज्य सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन में खरीदी केंद्र पर लगे अमले और किसानों से कहा गया है कि वे सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करें. एक-दूसरे से कम से कम छह फीट की दूरी बनाकर रखें. इसके लिए खरीदी केंद्रों पर पुलिस बल भी तैनात रहेगा. गाइडलाइन के मुताबिक बुजुर्ग और बीमार किसान को खरीदी केंद्र तक न आने की सलाह दी गई है, ऐसे किसान किसी नामित व्यक्ति को खरीदी केंद्र पर भेज सकते हैं. खरीदी केंद्र पर मौजूद अमले और किसानों से कहा गया है कि वो पूरे वक्त मास्क पहने रहें. एडवाइजरी में बार-बार हाथ धोने और घर पर बने मास्क का उपयोग करने की भी सलाह दी गई है.

खरीदी केंद्रों पर भीड़ न हो, इसके लिए सरकार ने पहले से ही इंतजाम कर रखे हैं. मसलन, खरीदी केंद्रों की संख्या बढ़ा दी गई है, खरीदी व्यवस्था को विकेंद्रित करने की कोशिश भी की गई है. साथ ही हर खरीदी केंद्र पर किसान को कब पहुंचना है, इसकी सूचना भी SMS के जरिए दी जाएगी. ऐसी व्यवस्था बनाई गई है कि एक खरीदी केंद्र पर सुबह और शाम के वक्त दो पालियों में 10-10 किसान ही बुलाए जाएं, जिससे किसानों को ज्यादा इंतजार न करना पड़े. बता दें कि पिछली बार तक किसानों को खरीदी केंद्र पर फसल बेचने के लिए तीन से छह-सात दिन तक का इंतजार करना पड़ता था.

कोरोना के खतरे को देखते हुए सरकार ने फिलहाल इंदौर, भोपाल और उज्जैन में गेहूं खरीदी को टाल दिया है. इन जिलों में गेहूं खरीदी का फैसला बाद में लिया जाएगा. तीन जिलों में कोरोना संक्रमण का खतरा केवल शहरी क्षेत्रों तक ही सीमित है, लेकिन खरीदी केंद्र शुरू किए गए तो हालात बिगड़ भी सकते हैं. इसलिए सरकार ने एहतियात के तौर पर तीन जिलों में गेहूं खरीदी की तारीख का ऐलान बाद में करने का फैसला लिया है.