जिला स्तरीय शांति समिति ने की अपील...

सूखी होली मनाएँ और लकड़ी की जगह कण्डों की होली जलाएँ



ग्वालियर l होली का त्यौहार गुलाल से मनाने तथा सूखी होली खेलने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण के लिये लकड़ी के स्थान पर कण्डों की होली जलाने की अपील शांति समिति द्वारा की गई है। रंगों का त्यौहार होली, गुड़ी पड़वा, महावीर जयंती, गुड फ्राइडे, चैती चाँद व रामनवमी त्यौहार शांति, सदभाव एवं आपसी भाईचारे के साथ मनाने की अपील भी जिला शांति समिति द्वारा की गई है।

सोमवार को कलेक्टर अनुराग चौधरी एवं पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन की मौजदगी में शांति समिति की बैठक कलेक्ट्रेट कार्यालय के सभाकक्ष में सम्पन्न हुई। बैठक में एडीएम किशोर कान्याल, एसडीएम श्रीमती जयति सिंह, एसडीएम प्रदीप तोमर, पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी सहित शांति समिति के सदस्य सर्वश्री संत कृपाल सिंह, विनायक गुप्ता, बसंत गोडियाले, दीपक राजपाल, डॉ. व्ही के कुंदवानी, कमल माखीजानी, डॉ. राजकुमार दत्ता, त्रिलोक सिंह भाटिया, समद कादिरी, काजी तनवीर, अख्तर हुसैन कुर्रेशी, फादर एसपी दास व एड. राजू फ्रांसिस उपस्थित थे।

कलेक्टर अनुराग चौधरी ने कहा कि ग्वालियर में पानी की बचत के लिए सूखी होली मनाने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण के उद्देश्य से शहर में कण्डों की होली जलाने के लिये लोगों को समझाईश देने का कार्य शांति समिति के सभी पदाधिकारी करें। उन्होंने कहा कि नगर निगम की गौशाला में गोबर से लकड़ी और कण्डे बनाने का कार्य कराया जा रहा है। नगर निगम की गौशाला से शहरवासियों को गोबर की लकड़ी उपलब्ध कराई जायेगी।

इसके साथ ही होली आयोजन समिति के सभी लोगों से आग्रह है कि होलिका दहन कण्डों के माध्यम से ही किया जाए। इसके साथ ही पानी की बचत के लिये इस वर्ष सूखी होली मनाने का आहवान भी किया गया। कलेक्टर अनुराग चौधरी ने शांति समिति से धार्मिक आयोजन के दौरान आम नागरिकों की सुविधाओं व शहर की व्यवस्थाओं को बनाए रखने में सहयोग करने की अपील भी शहरवासियों से की है। शांति समिति के सदस्यगण भी अपने-अपने क्षेत्र में व्यवस्थाएँ बनाए रखने में सक्रिय भागीदारी निभायेंगे।

शांति समिति ने जिले वासियों से आग्रह किया है कि होलिका दहन में पूरी सावधानी बरतें अर्थात डाम्बरीकृत सड़क, बिजली, टेलीफोन व केबिल बायर के नीचे होलिका दहन न करें। होली पर लकड़ी का अपव्यय न करते हुए कण्डों के इस्तेमाल को प्राथमिकता दिए जाने की अपील भी शांति समिति ने की है। होली के त्यौहार पर प्राकृतिक रंगों का इस्तेमाल करने पर भी शांति समिति ने विशेष बल दिया है। कलेक्टर अनुराग चौधरी ने इन सभी त्यौहारों पर पानी, बिजली व साफ-सफाई के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश नगर निगम के अधिकारियों सहित अन्य संबंधित अधिकारियों को दिए।

 कलेक्टर श्री चौधरी एवं पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने समिति को भरोसा दिलाया कि होलिका पर्व पर कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिये एहतियात के तौर पर पुख्ता इंतजाम रखे जायेंगे। असामाजिक तत्वों की गतिविधियों को सख्ती से रोका जायेगा। त्यौहार के समय कार्यपालिक मजिस्ट्रेट सहित अतिरिक्त पुलिस अधीक्षकों, अनुविभागीय पुलिस अधिकारियों व थाना प्रभारियों को अपने-अपने क्षेत्र में त्यौहारों के दौरान विशेष सतर्कता बरतने की हिदायत दी है।

कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि होली पर अस्पतालों में चिकित्सकों की नामवार ड्यूटी लगाई जाए, जिसकी सूची व मोबाइल नम्बर की एक प्रति उन्हें प्रेषित की जाए। इसी तरह एमपीईबी के कर्मचारियों की एवं नगर निगम के कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाए।

त्यौहारों पर बिजली आपूर्ति कदापि बाधित न हो
कलेक्टर अनुराग चौधरी ने बैठक में मौजूद मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारियों को साफ तौर पर हिदायत दी कि इन त्यौहारों के दौरान बिजली आपूर्ति कदापि बाधित न हो। उन्होंने कहा हर क्षेत्र के लिये नामजद ड्यूटी लगाएँ। वरिष्ठ विद्युत अधिकारी स्वयं भ्रमण कर देखें कि विभागीय अमला इन त्यौहारों के दिन अपनी ड्यूटी पर तैनात रहें। उन्होंने कहा कि बेवजह बिजली की आपूर्ति बाधित होने पर संबंधित अधिकारी-कर्मचारी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जायेगी।

परीक्षाओं के मद्देनजर प्रात: 8 से 2 बजे तक भारी वाहनों पर प्रतिबंध
बैठक में यह निर्णय लिया गया कि स्कूली परीक्षाओं को मद्देनजर रखते हुए बच्चों को आने-जाने में किसी तरह की समस्या न हो। इसके लिए प्रात: 8 बजे से दोपहर 2 बजे तक भारी वाहनों का प्रवेश शहर में निषेध रहेगा। साथ ही शहर के बाहर जिन इलाकों में स्कूल है वहां भी बच्चों को दिक्कत न आए। इसके लिए वहां भी प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की जा रही है। शहर से शिवपुरी लिंक रोड़ बेला की बावड़ी, शहर से हुरावली-मालवा रोड़, रिठोंदा और एयरफोर्स आदि क्षेत्रों में भी भारी वाहनों का प्रवेश निषेध रहेगा। साथ ही जिन क्षेत्रों में बच्चों की परीक्षायें हैं वहां भी पुलिस का गश्त रहेगा।

रात्रि 10 बजे के बाद डीजे पर प्रतिबंध
सर्वसम्मति से बैठक में तय किया गया कि शादियों या अन्य कार्यक्रमों में बच्चों की परीक्षाओं को देखते हुए रात्रि 10 बजे के बाद डीजे पर प्रतिबंध रहेगा। रात 10 बजे से पूर्व भी 66डीबी आवाज से ज्यादा बजाने पर प्रतिबंध रहेगा। अगर किसी तरह की लापरवाही की जाती है तो नियमानुसार वैधानिक कार्रवाई संबंधितों के खिलाफ की जायेगी।

बैठक के अन्य प्रमुख मुद्दे
जोर जबरदस्ती से चंदा वसूलने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई।
शराब एवं अन्य मादक पदार्थों की दुकानें होली के त्यौहार पर रहेंगी बंद।
पुलिस दस्ते शहर भर में रखेंगे असामाजिक तत्वों पर नजर।
त्यौहारों पर भण्डारे को सड़क पर न करें तथा उनसे निकलने वाले दोने, पत्तल, पॉलीथिन
        को रोड़ पर न फेंकें। इसके लिये डस्टबिन की व्यवस्था की जाए।
गुड फ्राइडे त्यौहार के मद्देनजर गिरिजाघरों के आसपास साफ-सफाई के इंतजाम हों।
भण्डारों व त्यौहार के दौरान तीव्र आवाज के डीजे बजाने की अनुमति नहीं होगी।
प्रिंटिंग प्रेस वालों को शादी कार्ड पर यह लिखना अनिवार्य होगा कि रात्रि 10 बजे के बाद
        डीजे नहीं बजाया जायेगा।