“जनसरोकार मीडिया” विषय पर संगोष्ठी सम्पन्न…

सरकार ने एक वर्ष में नागरिकों के हित में ऐतिहासिक फैसले लिए हैं : खाद्य मंत्री 


ग्वालियर l 29 दिसम्बर 2019 l खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने कहा कि मध्यप्रदेश देश का ऐसा एक मात्र राज्य है जहां किसी भी जिले का उपभोक्ता प्रदेश के किसी भी हिस्से में स्थित उचित मूल्य की दुकान से अपना खाद्यान्न प्राप्त कर सकता है।

राज्य सरकार ने एक वर्ष के दौरान सभी वर्गों के लिए ऐतिहासिक फैसले लिए हैं। उक्त आशय के विचार मंत्री श्री तोमर ने रविवार को संभागीय जनसंपर्क कार्यालय ग्वालियर द्वारा प्रेस क्लब प्रांगण में आयोजित “जनसरोकार मीडिया” विषय पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में व्यक्त किए। कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार सर्वश्री राम विद्रोही, बच्चन बिहारी, डॉ. केशव पाण्डेय, साबिर अली, राजेन्द्र श्रीवास्तव, नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष कृष्णराव दीक्षित और अपर संचालक जनसंपर्क जी एस मौर्य मंचासीन थे।

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि कमल नाथ सरकार ने एक वर्ष के दौरान प्रदेश में रहने वाले हर वर्ग के लिए ऐतिहासिक फैसले लिए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के एक करोड़ 17 लाख घरेलू बिजली उपभोक्ताओं में से एक करोड़ लोग 100 रूपए बिजली का बिल दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विधवा महिलाओं के लिए विधवा पेंशन की राशि 300 रूपए से बढ़ाकर 600 रूपए कर दी है। इस योजना के तहत 44 लाख हितग्राहियों को लाभ मिल रहा है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह प्रोत्साहन योजना के तहत प्रदेश में अब गरीब की बेटी की शादी के लिए 51 हजार रूपए की राशि राज्य सरकार दे रही है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश देश का एक मात्र ऐसा राज्य है जहां किसी भी जिले का उपभोक्ता प्रदेश की किसी भी उचित मूल्य की दुकान से अपना खाद्यान्न प्राप्त कर सकता है।

मंत्री श्री तोमर ने अपने उदबोधन में कहा कि पत्रकारिता चौथा स्तम्भ होने के नाते पत्रकार पहले प्रदेश के नागरिक हैं। उनकी भी जिम्मेदारी है कि अब अपनी लेखनी के माध्यम से युवाओं का भविष्य बनाने एवं प्रदेश के विकास में योगदान दें। उन्होंने कहा कि शहर में स्वच्छता, स्वास्थ्य एवं शिक्षा के क्षेत्र में भी बेहतर सुविधायें देने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके परिणाम भी देखने को मिल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि ग्वालियर चिकित्सालय में 450 मरीजों की ओपीडी बढ़कर 800 हो गई है। चिकित्सालय में अल्ट्रासोनोग्राफी एवं अन्य जांचों के अलावा बाईपास सर्जरी की सुविधा भी शीघ्र प्राप्त होगी। संजीवनी क्लीनिक भी गरीब बस्तियों में शुरू किए जा रहे हैं। श्री तोमर ने इस अवसर पर संभागीय जनसंपर्क कार्यालय द्वारा प्रकाशित पुस्तिका का भी विमोचन किया।

 वरिष्ठ पत्रकार रामविद्रोही ने संगोष्ठी को संबोधित करते हुए कहा कि जनसरोकार के बिना पत्रकारिता एवं राजनीति नहीं हो सकती। उन्होंने कहा कि देश के 130 करोड़ लोगों को पत्रकारिता पर आज भी विश्वास है। पत्रकारों का कर्तव्य है कि हम लोगों के विश्वास को कायम रखें।

पत्रकार राजेन्द्र श्रीवनास्तव ने संगोष्ठी के आयोजन के लिए जनसंपर्क विभाग को साधुवाद देते हुए कहा कि पत्रकार जन सरोकार का मुख्य पात्र है। पत्रकार ही मीडिया के माध्यम से जनता एवं सरकार को जोड़ने का कार्य करता है। यह आज ही  नहीं प्राचीनकाल से हो रहा है। पत्रकारों के सहयोग से ही योजना मूर्तरूप ले पाई हैं। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा वरिष्ठ पत्रकारों के लिए 10 हजार रूपए की जो सम्मान राशि दी जा रही है उसके लिये राज्य सरकार धन्यवाद की पात्र है।

पत्रकार बच्चन बिहारी ने कहा कि जनसंपर्क विभाग द्वारा प्रदेश के सभी जिलों में जनसरोकार मीडिया विषय पर संगोष्ठियों का आयोजन किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कमल नाथ ने एक वर्ष के दौरान वचन पत्र में जो जनता से वादे किए थे उनमें से अधिकांश पूर्ण किए हैं।

पत्रकार साबिर अली ने संगोष्ठी के आयोजन को एक अच्छी पहल बताते हुए कहा कि पत्रकार जन सरोकार के रूप में जनता की समस्याओं को भी अपने समाचारों के माध्यम से उठायें। वरिष्ठ पत्रकार डॉ. केशव पाण्डेय ने संगोष्ठी के आयोजन के लिए जन संपर्क विभाग की सराहना करते हुए कहा कि पत्रकारों की नई पीढ़ी को इस संगोष्ठी से काफी लाभ होगा।

इन पत्रकारों का हुआ सम्मान
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने जनसरोकार एवं मीडिया विषय पर आयोजित संगोष्ठी के कार्यक्रम में सर्वश्री राम विद्रोही, बच्चन बिहारी, डॉ. केशव पाण्डेय, साबिर अली, राजेन्द्र श्रीवास्तव का शॉल-श्रीफल भेंट कर सम्मान किया गया। अपर संचालक जनसंपर्क जी एस मौर्य ने संगोष्ठी के उद्देश्य एवं महत्व पर प्रकाश डालते हुए सभी के प्रति आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ पत्रकार सुरेन्द्र माथुर ने किया।