प्रशासन पर अव्यवस्था का आरोप…

दंदरौआ धाम सरकार के दरबार में मची भगदड़ !


भोपाल। मध्य प्रदेश के भिंड के दंदरौआ धाम में बागेश्वर सरकार के लगाए गए कथा दरबार में बड़ा हादसा हो गया है। मुरैना से दंदरौआ सरकार के दर्शन को पहुंची एक महिला की बागेश्वर सरकार धीरेंद्र शास्त्री के दर्शन को उमड़ी भीड़ में कुचलने की वजह से मौत हो गई है। इस घटना में 4 से 5 लोग घायल हो गए हैं। मृतक महिला के परिजनों ने प्रशासन पर अव्यवस्थाओं का आरोप लगाया है। इन दिनों भिंड के सुप्रसिद्ध दंदरौआ धाम में बागेश्वर सरकार पंडित धीरेंद्र शास्त्री का दरबार लगा हुआ है। वे यहां हनुमान कथा कर रहे हैं, जिसके चलते प्रतिदिन 3 से 5 लाख लोगों की भीड़ जुट रही है। लाखों खर्च होने के बाद भी प्रशासनिक अव्यवस्था का नतीजा हादसे के रूप में देखने का मिला है, जिसकी वजह से एक महिला की मौत हो गई है। 

मिली जानकारी के मुताबिक, प्रति मंगलवार को दंदरौआ सरकार के दर्शन को हजारों की संख्या में श्रद्धालु दंदरौआ धाम पहुंचते हैं। ऊपर से इन दिनों बागेश्वर सरकार पंडित धीरेंद्र शास्त्री की हनुमान कथा का आयोजन भी चल रहा है। इसकी वजह से बेकाबू भीड़ दंदरौआ धाम पर टूट रही है। मंगलवार को मुरैना की रहने वाली कृष्ण बंसल अपने परिवार के साथ दंदरौआ धाम पहुंची थीं लेकिन मंदिर के गेट पर बेकाबू भीड़ ने उन्हें पैरो तले रौंद दिया। इस वजह से उनकी मौत हो गई।

महिला के शव के साथ मेहगांव अस्पताल पहुंचे बेटे ने बताया कि वह अपनी मां कृष्णा बंसल और परिवार के दो अन्य सदस्यों के साथ दंदरौआ सरकार के दर्शन के लिए आए थे। मंदिर गेट पर अचानक उनकी माता भीड़ में गिर पड़ीं और उनका वजन अधिक होने की वजह से वह उठ नहीं पाईं। ऐसे में उनकी मदद करने की जगह बेकाबू भीड़ उनके ऊपर से निकलती चली गई, जिससे उनकी मौत हो गई। पीड़ित बेटे ने यह भी बताया कि इस हादसे के पीछे प्रशासन की अव्यवस्था है। वह ना तो भीड़ को कंट्रोल कर पा रहे हैं और ना ही डॉक्टर या स्वास्थ्य संबंधी व्यवस्थाए हैं। भीड़ इतनी बेकाबू थी कि मां गिरने पर काफी समय तक उठ नहीं पाईं और कई लोग इस भीड़ में कुचल गए। इसमें से 2-3 को तो उन्होंने खुद बचाया। एक घायल श्रद्धालु को भिंड भेजा गया है और बाकी घायलों को मामूली चोटें है।