डिप्टी कमिश्नर ने जारी किया आदेश...

एक साल से जम्मू में रह रहे लोग डाल सकेंगे वोट


जम्मू-कश्मीर में अगले साल विधानसभा चुनाव हो सकते हैं और अगले 1 महीने में मतदाता सूची का काम पूरा होने की संभावना है l   इस बीच जम्मू की डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा ने वोटर रजिस्ट्रेशन के लिए नए आदेश जारी किए हैं और सभी तहसीलदारों को नए वोटर्स के रजिस्ट्रेशन को लेकर आदेश दिया है l  डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासाने अपने आदेश में सभी तहसीलदारों से कहा कि एक साल से ज्यादा समय से जम्मू जिले में रह रहे लोगों को मतदाता के रूप में रजिस्ट्रेशन के लिए वेरिफाई करें l  इस आदेश के अनुसार, एक साल से ज्यादा समय से रहे लोग नए वोटर के रूप में रजिस्टर किए जाएंगे और अगर कोई बाहरी व्यक्ति भी एक साल से अधिक समय तक जम्मू में रह रहा है तो उसे वोटिंग का अधिकार मिल सकता है l  

भारत चुनाव आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार एक साल के लिए पानी / बिजली / गैस कनेक्शन, आधार कार्ड, राष्ट्रीयकृत / अनुसूचित बैंक / डाकघर की वर्तमान पासबुक, भारतीय पासपोर्ट, राजस्व विभाग का किसान बहीखाता सहित भूमि स्वामित्व रिकॉर्ड, पंजीकृत किराया/लीज डीड (किरायेदार के मामले में) और खुद के घर के मामले में रजिस्टर्ड सेल डीड का इस्तेमाल कर कोई भी वोटर के रूप में रजिस्ट्रेशन करा सकता है l जम्मू में भी इनमें से कोई भी दस्तावेज निवास के प्रमाण के रूप में स्वीकार किया जा सकता है l  डिप्टी कमिश्नर अवनी लवासा के आदेश का विरोध भी शुरू हो गया है और नेशनल कॉन्फ्रेंस ने विरोध जताया है. विरोध दर्ज कराते हुए नेशनल कॉन्फ्रेंस ने कहा कि मोदी सरकार 25 लाख गैर स्थानीय लोगों को वोटर लिस्ट का हिस्सा बनाने वाली है और इसको लेकर ही कवायद कर रही है l  

सूत्रों के अनुसार, ठंड में चुनाव होने की संभावना नहीं है तो ऐसे में अगले साल ही जम्मू-कश्मीर में चुनाव कराए जाएंगे l   बता दें कि मतदाता सूची को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है और इसके अगले एक महीने में पूरी होने की संभावना है. जम्मू-कश्मीर में 4 श्रेणियों में मतदाताओं की संख्या बढ़ी है l