1956 में राज्यों के पुनर्गठन के फलस्वरूप 1 नवंबर 1956 को अस्तित्व में आया मध्यप्रदेश...

एक नवंबर को मनाया जाएगा स्थापना दिवस

भोपाल। मध्य प्रदेश एक नवंबर को अपना स्थासपना दिवस मनाएगा। क्याब आप जानते हैं कि मध्यि प्रदेश कैसे बना। इतिहास बताता है कि 26 जनवरी, 1950 को संविधान लागू होने के बाद भारत में सन् 1952 में पहले आम चुनाव हुए। इसके कारण संसद और विधान मण्डवल कार्यशील हुए। प्रशासनिक दृष्टि से इन्हें  श्रेणियों में विभाजित किया गया था। सन् 1956 में राज्योंक के पुनर्गठन के फलस्वदरूप 1 नवंबर 1956 को नया राज्यर मध्य  प्रदेश अस्तित्वा में आया। 31 अक्टूेबर को मध्यद प्रदेश का विभाजन करके एक नवंबर 2000 को देश के 26 वें राज्यि के रूप में छत्तीमसगढ़ का गठन किया गया। भू वैज्ञानिक दृष्टि से मध्यप प्रदेश सर्वाधिक प्राचीनतम गोंडवानालैंड भू संहति का भू भाग है। इसकी सरंचना आद्य, महाकल्पम शैल समूह के आसपास हुई मानी जाती है। 

क्यां आप जानते हैं कि मध्य प्रदेश की सीमाएं पांच राज्यों की सीमाओं से मिलती हैं। मध्य  प्रदेश के उत्तर में उत्तर प्रदेश, पूर्व में छत्तीसगढ़, दक्षिण में महाराष्ट्र और पश्चिम में गुजरात तथा उत्तर-पश्चिम में राजस्थान राज्यत है। मध्यन प्रदेश चूंकि देश के मध्या भाग में स्थित है इसलिये इसे भारत का हृदय प्रदेश भी कहा जाता है। मध्यत प्रदेश का जन्मन देश को आजादी मिलने के बाद हुआ। 1947 में जब भारत स्वतंत्र हुआ, तो मध्य भारत और विंध्य प्रदेश के नए राज्यों को पुरानी सेंट्रल इंडिया एजेंसी से अलग कर दिया गया। तीन साल बाद 1950 में मध्य प्रांत और बरार का नाम बदलकर मध्य प्रदेश कर दिया गया। प्रदेश का पुर्नगठन भाषीय आधार पर किया गया था। इसके घटक राज्य मध्य प्रदेश, मध्य भारत, विन्ध्य प्रदेश एवं भोपाल थे जिनकी अपनी विधानसभाएं थीं। इस राज्य का निर्माण तत्कालीन सीपी एंड बरार, मध्य भारत, विंध्यप्रदेश और भोपाल राज्य को मिलाकर हुआ। इसे पहले मध्य भारत के नाम से भी जाना जाता था।एक नवंबर 1956 को नए मध्ये प्रदेश की राजधानी भोपाल को बनाया गया। 

पंडित रविशंकर शुक्ल  मध्या प्रदेश के प्रथम मुख्यदमंत्री और डाक्ट र बी पट्टाभिसीतारमैया पहले राज्य पाल बनाए गए। इतिहास बताता है कि मध्य  प्रदेश की राजधानी के लिए कई बड़े शहरों में खींचतान चल रही थी। राजधानी के लिए सबसे पहला नाम ग्वालियर और फिर इंदौर का आया था। हालांकि राज्य पुनर्गठन आयोग ने मध्यथ प्रदेश की राजधानी के लिए जबलपुर के नाम भी सुझाव दिया था, लेकिन बताया जाता है कि भोपाल में भवन ज्यादा थे, जो सरकारी कामकाज के लिए उपयुक्त थे। इसी कारण भोपाल को मध्य प्रदेश की राजधानी के रूप में चुना गया। भोपाल के नवाब तो भारत से संबंध ही रखना नहीं चाहते थे। वे हैदराबाद के निजाम के साथ मिलकर भारत का विरोध करने लगे थे, लेकिन देश के हृदय स्थल में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को रोकने के लिए भोपाल को ही मध्य प्रदेश की राजधानी बनाने का फैसला किया गया।