टिप्पणी पर चीन फंसा…

विदेशियों को मत छुओ, मंकीपॉक्स हो जाएगा !


बीजिंग । स्थानीय नागरिकों को चेताते हुए अधिकारी ने मंकीपॉक्स से बचने के लिए विदेशियों और हाल ही में विदेश से लौटे नागरिकों के संपर्क में नहीं रहने को कहा है। चीन के वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी की एक टिप्पणी पर बवाल कट गया है l  उनकी इस टिप्पणी को नस्लवादी और भेदभावकारी बताते हुए सोशल मीडिया पर इसका काफी विरोध किया जा रहा है। चीन के चोंगक्विंग शहर में शुक्रवार को मंकीपॉक्स का पहला मामला सामने आया था। विदेश से आए इस शख्स को क्वारंटीन में रखा गया था लेकिन क्वारंटीन में रहते हुए उनके शरीर पर लाल चकत्ते नजर आने लगे। इसके बाद चीन के शीर्ष महामारी विशेषज्ञ वु जुनयो ने स्थानीय लोगों को मंकीपॉक्स से बचने के लिए विदेशियों और हाल ही में विदेश से लौटे नागरिकों के संपर्क में नहीं आने को लेकर चेतावनी दी है।

चाइनीज फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुख्य महामारी विशेषज्ञ वु ने कहा, संभावित मंकीपॉक्स संक्रमण से बचने के लिए विदेशियों और बीते तीन हफ्तों के भीतर विदेश से लौटे लोगों के संपर्क में नहीं आने की सलाह दी जाती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने लोगों से अजनबियों के भी संपर्क में नहीं रहने को कहा है। होटलों सहित सार्वजनिक शौचालयों में डिस्पोजेबल शौचालय सीट का इस्तेमाल करने को कहा है। चीन के कई इंटरनेट यूजर्स ने वु के इन सुझावों पर आपत्ति जताई है। कुछ यूजर्स ने इन्हें नस्लवादी और भेदभावकारी बताया है। चीन के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वेबो पर एक यूजर ने कहा, यह कितना नस्लवादी है? ऐसे लोगों के बारे में क्या, जो लगभग दस सालों से चीन में रह रहे हैं। सीमाएं बंद होने की वजह से बीते तीन से चार सालों से हम हमारे परिवारों से नहीं मिले हैं।

एक अन्य यूजर ने कहा कि वु के सुझाव पूरी तरह से अनुपयुक्त हैं। उन्होंने कहा, हमारे कितने सारे विदेशी दोस्त हैं, जो चीन में काम करते हैं। महामारी की शुरुआत में कुछ विदेशी दोस्त ही थे, जिन्होंने सोशल मीडिया के जरिए सभी को बताया था कि चीन के लोग यह वायरस नहीं फैला रहे हैं। यूजर ने कहा कि जब विदेशी लोगों के साथ देश में भेदभावपूर्ण व्यवहार किया जा रहा है तो हम चीनी लोगों को मूकदर्शक बनकर नहीं रहना है। एक अन्य यूजर ने कहा, क्या वह सेक्सुअल रिलेशनशिप का हवाला दे रहे हैं या सिर्फ त्वचा के संपर्क में आने से बचने का। मुझे लगता है कि वह सेक्शुअल रिलेशनशिप का हवाला दे रहे हैं। लेकिन विदेशी मेहमान से मिलने पर उनसे हाथ मिलाने से बचा नहीं जा सकता। बस में भी किसी की त्वचा के संपर्क में आने से बचना मुश्किल है।