संवरेगा भविष्य का शहर, रोजगार की आसान होगी डगर ...

योग्य जनप्रतिनिधियों के नेतृत्व में विकास की उड़ान भरता ग्वालियर !


ग्वालियर l स्मार्ट सिटी ग्वालियर में शहरीकरण की रफ्तार काफी तेज है और यह अर्थव्यवस्था की प्रगति की वाहक भी है। किसी भी शहर की तरक्की में परिवहन का खास महत्व होता है। सड़क, रेल और वायुमार्ग इनके एक साथ जुड़ने से शहर तेजी से दौड़ने लगता है। क्योंकि ये तीनों मार्ग परिवहन के सबसे महत्वपूर्ण और प्रमुख साधन हैं। ग्वालियर तेजी से विकास की रफ्तार पकड़ रहा है और बेहतर भविष्य के लिए नये आयाम गढ़ रहा है। सड़क परिवहन के तौर पर एलिवेटेड रोड, यात्रियों की सुविधाओं के लिए अंतरराज्यीय बस अड्डा, रेल के लिए प्रस्तावित अत्याधुनिक रेलवे स्टेशन और हवाई सेवाओें के लिए वर्ल्ड क्लास का एयरपोर्ट ये शहर के भविष्य की वो तस्वीर है, जब ये आकार लेंगी तो ग्वालियर देश ही नहीं विदेश में अपनी अलग छाप छोड़ेगा। ग्वालियर में वर्ल्ड क्लास, एयरपोर्ट, एलिवेटेड रोड और भव्य रेलवे स्टेशन केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की विकास की ललक का परिणाम हैं जो ग्वालियर को नया फलक देगा। सिंधिया जी ने  सितंबर 2021 में कलेक्ट्रेट में अधिकारियों के साथ विजन डाक्यूमेंट पर चर्चा के दौरान अपनी भावना से अवगत कराते हुए कहा था कि ग्वालियर का विकास मेरा सपना है। साथ ही यह भी कहा कि मेरे पिताजी माधवराव सिंधिया का भी यही सपना था कि ग्वालियर में एक अत्याधुनिक एयरपोर्ट बने, जिसे दुनिया देखे। क्योंकि मेरी दादी का नाम इससे जुड़ा है। इसलिए एक विश्वस्तरीय एयरपोर्ट बनाना मेरा दायित्व ही नहीं धार्मिक कर्तव्य भी है। यही कारण है कि आत्मनिर्भर एवं सांस्कृतिक थीम पर ग्वालियर का विजन डॉक्यूमेंट तैयार कराया गया है। ग्लोबल ग्वालियर की सोच रखने वाले सिंधिया के ड्रीम प्रोजेक्ट के साकार होने पर भविष्य के ग्वालियर की वास्तविक तस्वीर से रू-ब-रू कराती खास-खबर।  

एलिवेटेड रोड : बदल जाएगा नजारा 

स्वर्ण रेखा नदी पर एलिवेटेड रोड से शहर की यातायात व्यवस्था का नजारा ही बदल जाएगा। हुनमान बांध से ट्रिपल आईटीएम तक 829 करोड़ की लागत से 14.7 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण होना है। प्रथम चरण में 447 करोड़ रुपए में लक्ष्मीबाई समाधि से ट्रिपल आईटीएम तक 6.5 किलोमीटर लंबे एलिवेटेड रोड का निर्माण होगा। जिसके लिए 195 पिलर तैयार किए जाएंगे और 168 स्पॉन बनेंगे। एलिवेटेड रोड पर पैदल चलने वालों के लिए ट्रेक बनेगा और उतरने-चढ़ने के लिए कुछ प्वांइट पर सीढ़ियां भी बनाई जाएंगी। रोड के बनने से शहर के यातायात को रफ्तार मिल सकेगी। कारण- 40 फीसदी तक यातायात परिवर्तित हो सकेगा। अंकलेश्वर गुजरात की श्री मंगलम विल्डकॉन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी इसका निर्माण करेगी।

एयरपोर्ट : दुनिया को दिखेगी भव्यता 

450 करोड़ की लागत से बनने वाला शानदार और अत्याधुनिक तकनीक से लैस एयरपोर्ट जल्द ही मिलेगा। नए एयरपोर्ट पर ए-320 जैसे विमान उतरेंगे और एक साथ 19 विमान खड़े हो सकेंगे। उनकी पार्किंग के साथ रिपेरिंग भी हो सकेगी। 19 एप्रिन बनाए जाएंगे। साथ ही अन्य वह सभी सुविधाएं भी मिलेंगी जो विश्व स्तरीय एयरपोर्ट पर होती हैं।  केंद्र सरकार ने 8 सितंबर 2021 को एयर पोर्ट विस्तार के लिए आलू अनुसंधान केंद्र की 110 एकड़ जमीन को नागरिक उड्डयन मंत्रालय को आवंटन करने की एनओसी दी। 24 सितंबर 2021 को सिंधिया ने विजन डॉक्यूमेंट की समीक्षा के जरिए शहर विकास के लिए अपने जो मंसूबे जाहिर किए थे उन्हें पूरा करने का अब वक्त आ गया है। क्योंकि अगले महीने एयरपोर्ट का शिलान्यास समारोह प्रस्तावित है। 

रेलवे स्टेशन : सुंदरता और ऐतिहासिकता का संगम 

रेलवे स्टेशन का कायाकल्प भी जल्द होगा। रेलवे स्टेशन का नया भवन बनेगा साथ ही मौजूदा ऐतिहासिक भवन को भी यथावत रखा जाएगा। जिससे सुंदरता के साथ इतिहास भी नजर आएगा। रेलवे स्टेशन को एयरपोर्ट जैसी सुविधाओं के रूप में परिवर्तित किया जाएगा। खास बात यह है कि हैरिटेज स्वरूप पूर्ण रूप से कायम रहेगा। 90 मीटर लंबा और 72 मीटर चौड़ा कानकोर्स बनेगा। जहां आराम से बैठकर यात्री अपनी ट्रेन का इंतजार कर सकेंगे। 6 प्लेटफॉर्म बनेंगे। 21 लिफ्ट और 19 एस्केलेटर लगाए जाएंगे। रेल मंत्री ने अश्वनी वैष्णव ने स्वयं इसका डिजाइन तैयार करवाया है। निर्माण पर 442 करोड़ खर्च होंगे और इसे 2024 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।  

अंतरराज्यीय बस टर्मिनल (आईएसबीटी) 

शहर के तेजी हो रहे विस्तार को देखते हुए नया अंतरराज्यीय बस टर्मिनल बनाया जा रहा है। गारमेंट्स पार्क के पास 25 एकड़ भूमि पर बनने वाले टर्मिनल का पॉच हजार वर्गफीट में भवन निर्माण होगा। ग्वालियर स्मार्ट सिटी डवलपमेंट कॉर्पोरेशन ने प्रिगमेटिक इंफ्रा स्ट्रेक्चर  कंपनी को निर्माण कार्य के लिए चुना है। 54.80 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाला टर्मिनल 18 महीने में बनाया जाएगा। इसके शुरू होने पर एक साथ 52 बसें रुक सकेंगी। जबकि 85 बसों की पार्किंग रहेगी। 

लॉजिस्टिक पार्क से मिलेगा रोजगार 

सिंधिया ने केंद्रीय परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी से ग्वालियर में अत्याधुनिक लॉजिस्टिक पार्क स्थापित करने का आग्रह किया है। यदि गड़करी ने सिंधिया के आग्रह पर ग्वालियर को पार्क की सौगात दी तो फिर आने वाले समय में ग्वालियर और अंचल में रोजगार की बहार होगी। युवाओं को नौकरी के तमाम अवसर मिलेगें और औद्योगिक क्षेत्रों का तेजी से विकास होगा।