तकनीकी अधिकारी बेसिक कोर्स क्रमांक 43 की...

सीमा सुरक्षा बल अकादमी टेकनपुर में भव्य दीक्षांत परेड आयोजित

ग्वालियर। सीमा सुरक्षा बल अकादमी में तकनीकी अधिकारी बेसिक कोर्स क्रमांक 43 का भव्य शपथ परेड का आज आयोजन किया गया। इस परेड में 42 मेडिकल ऑफिसर तथा 01 इंजीनियर ऑफिसर ने प्रशिक्षण लिया। इस परेड में 16 महिला प्रशिक्षु अधिकारियों सहित कुल 43 तकनीकी प्रशिक्षु अधिकारियों ने जेएस ऑबराय, वी०एस०एम०, महानिरीक्षक / संयुक्त निदेशक, सीमा सुरक्षा बल, अकादमी टेकनपुर को सलामी देते हुये एक शानदार परेड का प्रदर्शन किया। इस परेड की कमाण्डर प्रशिक्षु अधिकारी डाक्टर शौरवी सक्सेना रही तथा सभी प्रशिक्षु अधिकारियों ने मुख्य अतिथि जे एस ऑबराय, वी०एस०एम० के समक्ष देश के संविधान के प्रति एकता, अखण्डता व सम्प्रभुता को बनाये रखने के लिये अपने आपको समर्पित करने की शपथ ली। कार्यक्रम की शुरूआत परेड के ग्राउण्ड पर आने से हुई। परेड ने पहले कैलाश लाल साह, उप महानिरीक्षक / वरिष्ठ अनुदेशक, सीमा सुरक्षा बल, अकादमी टेकनपुर को सलामी दी।  इन युवा अधिकारियों में 36 एमबीबीएस, 3 एमबीबीएस / एमडी, 01 एमबीबीएस / डीए, 01 एमएमबीएस / डीपीएम / डीएनएस, 01 एमबीबीएस / एमएचए तथा 01 बीटेक की शैक्षणिक योग्यता रखते हैं। पास आऊट होने वाले अधिकारी देश के अलग-अलग राज्यों से संबंध रखते हैं। 

अकादमी के निदेशक / अपर महानिदेशक पंकज गूमर, संयुक्त निदेशक / मुख्य अनुदेशक जे एस ऑबराय, उप महानिरीक्षक / वरिष्ठ अनुदेशक कैलाश लाल साह, द्वितीय कमान अधिकारी ऊधम सिंह कुहाड एवं सी ओ टी की प्रशिक्षण टीम के कुशल मार्गदर्शन में इन अधिकारियों ने कठिन प्रशिक्षण प्राप्त करके अपने आपको देश की सीमाओं की देखभाल के लिये सक्षम बनाया है। तकनीकी अधिकारियों को 19 सप्ताह के कठिन प्रशिक्षण की भट्टी में फौलाद की तरह तपाकर सीमा सुरक्षा बल की कुशल प्रशिक्षण टीम ने इन्हें शारीरिक प्रशिक्षण, ड्रिल, युद्ध कौशल, निशानेबाजी, विधि व कानून, मानवाधिकार अधिनियम, पुलिस की रोजमर्रा की कार्यवाही. आपदा प्रबंधन, मैप रीडिंग, सीमा की निगरानी, आतंकवाद व उग्रवादियों से लड़ने जैसे विषयों के साथ तैराकी, और विशेष विषयों (चिकित्सा व अभियांत्रिकी) का भी गहन प्रशिक्षण दिया गया है। ट्रेनिंग के दौरान इनके व्यक्तित्व को संवारने, चरित्र निर्माण तथा नेतृत्व क्षमता को विकसित करने पर विशेष कार्यक्रम चलाये गये हैं। इस अवसर पर मुख्य अतिथि जेएस ऑबराय ने सबसे पहले अजेय प्रहरी / शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धाजलि दी। उसके उपरान्त मुख्य अतिथि परेड ग्राउंड पहुंचें, वहां परेड का निरीक्षण किया और फिर अव्वल आये निम्न प्रशिक्षु अधिकारियों को ट्रॉफियाँ वितरित की। 

क्र. ट्रॉफी का नाम                         प्राप्त कर्ता अधिकारी

1 ऑल राउण्ड बेस्ट                 डॉ. संतोष बाबू चव्हाण

2 बैस्ट इन आउटडोर सब्जेक्ट्स डॉ. थंगालक्ष्मी टी

3 बैस्ट इन इनडोर सब्जेक्ट्स         डॉ. संतोष बाबू चव्हाण

मुख्य अतिथि ने अपने सम्बोधन भाषण में युवा अधिकारियों की इस परेड की भूरि-भूरि प्रशंसा की एवं शानदार टर्नआउट, जोश व प्रदर्शन को भी सराहा। मुख्यतिथि ने यह भी विचार व्यक्त किये कि परेड के स्तर से स्वतः आभास होता है कि प्रशिक्षकों ने प्रशिक्षुओं को उत्कृष्ट प्रशिक्षण प्रदान कर एक सामान्य नागरिक से एक दृढ एवं योग्य बल के अधिकारी के रूप में परिवर्तित किया है। साथ ही प्रशिक्षु अधिकारियों के माता-पिता को अपने सुपुत्र एवं सुपुत्रियों को देश सेवा में भेजने के लिए कोटि-कोटि धन्यवाद किया। प्रशिक्षुओं के अभिभावकों के लिए श्वान शो और "चेतक" (वाहन का खोलना और जोड़ना) के प्रदर्शन का आयोजन किया गया। परेड के उपरान्त मुख्य अतिथि जेएस ऑबराय पिपिंग सेरेमनी में सम्मिलित हुए एवं प्रशिक्षु अधिकारियों और उनके अभिभावकों से मिले। इस दीक्षांत परेड के अवसर पर सीमा सुरक्षा बल अकादमी के अन्य अधिकारी और कार्मिकों के अतिरिक्त प्रशिक्षु अधिकारियों के परिवारजन भी उपस्थित रहे।