सिंध नदी के-टूटे पुलों के निर्माण को लेकर ...

29 अगस्त को होने वाले आंदोलन के लिए विधायक घनश्याम सिंह ने किया जनसंपर्क 

दतिया। सेंवढ़ा विधायक घनश्याम सिंह ने सेंवढ़ा की सिंध नदी पर बने पुलों के निर्माण की मांग को लेकर 29 अगस्त को सेंवढ़ा नगर में होने जा रहे धरना प्रदर्शन आंदोलन को लेकर बुधवार को सेंवढ़ा क्षेत्र के आधा दर्जन गांवों में ग्रामीणों से जनसंपर्क किया। 

विधायक श्री सिंह ग्राम हेतमपुरा, महाराज पुरा, दरियापुर व महेवा में पहुंच कर ग्रामीण जनों से कहा कि सिंचाई विभाग के अधिकारियों द्वारा लापरवाही बरतते हुए 3-4 अगस्त 2021 को अचानक मडीखेड़ा डेम से सिंध नदी में बड़ी मात्रा में पानी छोड़ दिया था, जिससे आई भयावह जल - त्रासिदी में सिंध नदी पर बने तीन प्रमुख पुल लांच पुल, रतनगढ़ माता मंदिर मार्ग पर निर्मित पुल तथा  सेंवढ़ा नगर में सनकुआं के पास सिंध नदी पर निर्मित पुल बाढ़ के पानी के तेज बहाव में टूट कर ढह गए थे।  तथा करीब आधा सैंकड़ा गांवों में बाढ़ का पानी भर जाने से हजारों लोगों को अपने मकान छोड़ने के लिए विवश होना पड़ा था। आपदा से प्रभावित लोगों को शासन-प्रशासन से कोई खास मदद नहीं मिली। 

बाढ़ से टूटे तीनों पुलों का निर्माण कार्य स्वीकृत कराने के लिए मैंने सक्रिय प्रयास किए। मैं प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान  एवं लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव से व्यक्तिगत मिला तथा उन्हें लिखित पत्र सौंपकर पुलों के महत्व से अवगत कराते हुए पुलों का निर्माण कार्य यथाषीघ्र कराने मांग कर चुका हूं। 

प्रदेश की विधानसभा में भी सेंवढ़ा क्षेत्र के पुलों के निर्माण का मुददा मेरे द्वारा उठाया गया। परंतु शासन ने अब तक सेंवढ़ा क्षेत्र के तीनों महत्वपूर्ण पुलों के निर्माण कार्य को स्वीकृत नही किया। 

नदी पर बने उक्त तीनों पुलों का निर्माण नहीं होने से अकेले सेंवढ़ा क्षेत्र ही नहीं अपितु सेंवढ़ा के 100 किमी. रेडियस के शहर लहार, दबोह, मौ, गोहन, आलमपुर जिला भिंड, मौठ, समथर जिला झांसी, दतिया, इंदरगढ़, थरेट, पंडोखर, भांडेर जिला दतिया तथा डबरा एवं पिछोर जिला ग्वालियर के करीब 1 लाख व्यक्ति प्रतिदिन आवागमन की सुविधा से बंचित है। सेंवढ़ा क्षेत्र का संपर्क ग्वालियर महानगर, जिला भिंड, जालौन, झांसी उप्र से कट गया है। 

सेंवढ़ा क्षेत्र के प्रसिद्ध रतनगढ़ माता मंदिर की ख्याति संपूर्ण ग्वालियर-चंबल, बुंदेलखण्ड, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली व उप्र आदि राज्यों में है। मंदिर पर प्रतिवर्ष  दीपावली की दौज को लगने वाले लख्खी मेले में, चैत्र व शारदीय नवरात्र पर्व तथा प्रति सोमवार को मंदिर पर लगने वाले मेले में लाखों की संख्या में श्रद्धालु देवी मां के दर्शनों के लिए आते है। ऐसे में रतनगढ माता मंदिर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को मंदिर पहुंचने में परेशानी हो रही है। सेंवढ़ा नगर में व्यापार ठप पड़ा है, जिससे आम जन व व्यापारी आर्थिक संकट से जूझ रहे है। उक्त समस्याओं से बेपरवाह सत्ता के मद में चूर और नींद में सोई हुई सरकार को जगाने के लिए 29 अगस्त 2022 को सेंवढ़ा क्षेत्र वासियों के साथ मिलकर धरना, प्रदर्शन व आंदोलन किया जाएगा। उन्होंने ग्रामीणों से आंदोलन में शामिल होने की अपील की।