आचार्य पण्डित बालेंदु जी के आचार्यत्व में ...

श्री सनातन धर्म मन्दिर में दो दिवसीय श्रीकृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव का भव्य शुभारंभ

शुक्रवार को  प्रातः 9:30 बजे भगवान श्री चक्रधर एवं श्री गिरिराजधरण का 51 किलो पंचामृत एवं पवित्र नदियों के जल से वैदिक मंत्रोच्चार के साथ आचार्य पण्डित बालेंदु जी के आचार्यत्व में मुख्य पुजारी पण्डित रमाकांत जी शास्त्री  एवं पण्डित देवेन्द्र शास्त्री ने कराया। मुख्य यजमान श्रीमती शांति देवी मोर बाजार एवं श्रीमती ममता अशोक कस्तवार थे। 

सांयकाल 6 बजे से भगवान चक्रधर  के दर्शनों का क्रम पुनः प्रारम्भ हुआ। पंक्तिबद्ध होकर श्रद्धालुओं ने  दर्शन करते हुए,कीर्तन करते हुए माखन की कुलिया एवं सिंघाड़े की पंजीरी का प्रसाद वितरण किया।15हजार कुलिया एवं 3 क्विंटल पंजीरी का भोग ठाकुरजी को अर्पित कर भक्तों में वितरित हुआ। रात्रि 11:30 पर भगवान के पट कुछ समय के लिए बंद होकर ठीक 12 बजे भगवान श्री कृष्ण के प्राकट्य के साथ जयकारों के बीच खुले,इसके साथ ही बैंड वादन,आकर्षक आतिशबाजी हुई।भगवान की पंचमुखी आरती हुई।