ऊर्जा मंत्री ने कोविड से माता-पिता खो चुके बच्चों से बँधवाई राखियाँ बच्चों को दिलाया भरोसा…

प्रदेश सरकार आपके सुख-दु:ख में सरकार सहभागी है : तोमर


ग्वालियर। रक्षाबंधन के पावन अवसर पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में अपने निवास पर “मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना” से जुड़े बच्चों से सीधा संवाद किया। साथ ही उनसे रक्षा सूत्र बँधवाए और बच्चों को उपहार प्रदान किए। इस कार्यक्रम का प्रदेश के सभी जिलों में सीधा प्रसारण हुआ। यहाँ ग्वालियर में कलेक्ट्रेट स्थित एनआईसी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कक्ष में जिले के बच्चों के साथ बैठकर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मुख्यमंत्री की मौजूदगी में भोपाल में आयोजित हो रहे कार्यक्रम को सीधे प्रसारण के जरिए देखा। वैश्विक महामारी कोरोना से अपने माता-पिता को खो चुके जिले के बच्चों से ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने भी इस अवसर पर राखियाँ बँधवाईं। ऊर्जा मंत्री तोमर ने राखियाँ बांधने आए सभी बच्चों को उपहार प्रदान किए। साथ ही सभी बच्चों को भरोसा दिलाया कि आप सब अपने आपको अनाथ न समझें।

आपके सुख-दुख में प्रदेश सरकार पूरा साथ देगी। इसी उद्देश्य से मुख्यमंत्री चौहान की पहल पर प्रदेश सरकार ने “मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना” शुरू की है। कोविड से जिन बच्चों के माता-पिता असमय स्वर्ग सिधार गए हैं जिले के ऐसे 43 बच्चों को इस योजना के तहत हर माह पाँच हजार रूपए की आर्थिक सहायता नि:शुल्क खाद्यान्न और शिक्षा के लिये सहायता प्रदान की जा रही है। इसके अलावा ऐसे बच्चे जिनके माता या पिता में से किसी एक की मृत्यु कोविड के दौरान हुई है उन्हें भी स्पाँसरशिप तथा फोस्टर केयर योजना के तहत दो हजार रूपए प्रति माह आर्थिक मदद दी जा रही है। कार्यक्रम में कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, अपर कलेक्टर एचबी शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला-बाल विकास राहुल पाठक, मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल सेवा योजना से जुड़े बच्चे और उनके अभिभावक मौजूद थे। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने इस अवसर पर सभी बच्चों एवं उनके अभिभावकों से हर घर तिरंगा अभियान में सहभागी बनने का आह्वान किया। साथ ही सभी को राष्ट्रीय ध्वज भी प्रदान किए।