हिंदू पक्ष का दावा- अंदर बाबा मिल गए, मुस्लिम पक्ष ने कहा- ऐसा कुछ नहीं…

ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में सर्वे का काम हुआ पूरा, 17 मई तक पेश होगी रिपोर्ट

रविवार को ज्ञानवापी में दूसरे दिन का सर्वे कार्य संपन्न हुआ। इस दौरान कोर्ट कमिश्नर की मौजूदगी में ज्ञानवापी मस्जिद के गुंबद की जांच की गई। साथ ही छत, ग्राउंड फ्लोर की वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी की गई। जहां नमाज पढ़ी जाती है, उस जगह का भी सर्वे का काम किया गया। मस्जिद के उत्तरी पश्चिमी दीवार की भी वीडियोग्राफी की गई। इस दौरान डीएम कौशल राज शर्मा भी सर्वे खत्म होने से पहले सर्वे वाली जगह पर पहुंचे।

तहखानों के खंभों और दरवाजों की माप ली गई। दीवारों की मोटाई भी मापी गई। खंभों से धूल हटाकर आकृतियों की वीडियोग्राफी की गई। सर्वे का काम पूरा होने के बाद 10 सफाई कर्मचारियों को मस्जिद के अंदर बुलाया गया। सर्वे खत्म होने के करीब डेढ़ घंटे बाद सर्वे की टीम बाहर निकली। इस दौरान बताया गया कि थोड़ा काम और बचा हुआ है। सर्वे का काम सोमवार को भी होगा। कल सोमवार को डेढ़ घंटे तक सर्वे होगा। वकील ने बताया कि सर्वे के दौरान शासन प्रशासन का पूरा सहयोग मिला। अब तक के सर्वे में क्या-क्या मिला है। इस बारे में कोई पुष्ट जानकारी नहीं है। 

हालांकि, रविवार को सर्वे करके बाहर निकले हिंदू पक्ष के वादी ने अपने हक में दावा किया था। उन्होंने कहा था कि हमारा दावा दिनों-दिन और भी मजबूत होता जा रहा है। हिंदू पक्ष के पैरोकार डॉ. सोहनलाल ने कहा कि नंदी जिसकी प्रतीक्षा कर रहे थे वह शिवलिंग मिल गए। इतिहासकारों ने जो लिखा था, वह सही था। जैसे ही बाबा मिले वैसे ही अंदर हर-हर महादेव का उद्घोष हुआ। DM कौशलराज शर्मा ने कहा कि सर्वे को लेकर अगर किसी ने कोई बात कही है या किसी बात का दावा किया है तो यह उनकी व्यक्तिगत राय हो सकती है। कोर्ट कमिश्नर द्वारा रिपोर्ट पेश करने के बाद कोई भी बात कोर्ट की ओर से ही बताई जाएगी। किसी की निजी बात या राय पर किसी को कोई ध्यान देने की आवश्यकता नहीं है।

दूसरी तरफ सर्वे करके बाहर आए मुस्लिम पक्ष के वकील ने मीडिया से तीन बार ऊंची आवाज में कहा था- कुछ नहीं मिला, कुछ नहीं मिला, कुछ नहीं मिला...। इतना कहते हुए वह चले गए। उधर, अफसरों का कहना है कि वकीलों का कहना है कि सर्वे जब तक पूरा नहीं हो जाता है, इस पर कुछ कमेंट करना उचित नहीं है।

17 मई, यानी मंगलवार को सर्वे की रिपोर्ट वाराणसी कोर्ट में सौंपी जानी है। अब तक के सर्वे में जो कुछ मिला है एडवोकेट कमिश्नर अजय मिश्र इसकी रिपोर्ट बनाएंगे। सर्वे में जो भी वीडियोग्राफी-फोटोग्राफी हुई है उसकी चिप परिसर के बाहर निकलने से पहले ही अफसरों को सौंप दी जाती थी, ताकि उसके लीक होने का संभावना न हो। ज्ञानवापी विवाद मामले में आज इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी सुनवाई है। एक विवाद से जुड़ी 3-3 याचिकाएं दाखिल हैं। 6 याचिकाओं पर सुनवाई होनी है।

सर्वे के दौरान क्या-क्या हुआ -

  • सूत्रों के हवाले से खबर आई कि सर्वे में शामिल एक व्यक्ति को अंदर की खबर लीक करने के आरोपों में हटाया गया है।
  • सर्वे के तीसरे दिन पर CM योगी खुद नजर रखे रहे, प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी से उन्होंने जानकारी ली।
  • ज्ञानवापी के गुंबद की वीडियोग्राफी हुई। इसकी बनावट की हाई लैंस कैमरे से फोटोग्राफी भी की गई। कल भी इसका सर्वे किया गया था।
  • ज्ञानवापी के 500 मीटर के दायरे में पब्लिक की एंट्री बैन रही। चारों तरफ से आने वाले रास्तों पर पुलिस-PAC का पहरा रहा।
  • सर्वे के तीसरे दिन ज्ञानवापी की सुरक्षा बढ़ा दी गई। 16 लेयर की सुरक्षा रही। पहले दिन 10 लेयर, जबकि दूसरे दिन 12 लेयर की थी।
  • पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश सर्वे शुरू होते ही सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने मौके पहुंचे। पैदल मार्च कर शांति की अपील की।
  • काशी विश्वनाथ-ज्ञानवापी मामले में विश्व वैदिक सनातन संघ प्रमुख जितेंद्र सिंह विसेन दोपहर 2 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।
  • विसेन के नेतृत्व में ही पिछले साल 5 महिलाओं ने कोर्ट में परिसर का सर्वे कराने की याचिका दायर की थी।
  • बुद्ध पूर्णिमा और सोमवार होने से कारण बड़ी संख्या में श्रद्धालु काशी विश्वनाथ मंदिर का दर्शन करने पहुंचे हैं।