‘आत्म-निरीक्षण’ पर केन्द्रित तीन दिवसीय ‘मंथन-2022’ में…

ऊर्जा मंत्री ने उत्कृष्ट कार्य के लिए विद्युत अभियंताओं एवं तकनीकी कार्मिकों को किया पुरस्कृत

ग्वालियर। मध्यप्रदेश की समस्त विद्युत कंपनियों के अभियंताओं और कार्मिकों के ‘आत्म-निरीक्षण’ पर केन्द्रित तीन दिवसीय ‘मंथन-2022’ में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने जबलपुर में पावर जनरेटिंग कंपनी, पावर ट्रांसमिशन कंपनी और तीनों विद्युत वितरण कंपनियों के उत्कृष्ट कार्य करने वाले 42 अभियंताओं एवं तकनीकी कर्मियों को पुरस्कृत किया। प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे, मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक अनय द्विवेदी, मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के मनजीत सिंह, मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी के प्रबंध संचालक सुनील तिवारी एवं समस्त विद्युत कंपनियों के चुनिंदा अभियंता और तकनीकी कार्मिक उपस्थित थे। 

ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने कार्यपालन अभियंता अनिल कुमार सिंह, सहायक अभियंता चंदन कुमार, अजय कुमार करवरिया, रामराज पटैल और रीकेश कुबड़े, कनिष्ट अभियंता गोलू धुर्वे, संयंत्र सहायक विशाल मालवीय और राजेन्द्र बुनकर (सभी जनरेटिंग कंपनी) पुरस्कृत किया। उन्होंने कार्यपालन अभियंता राजेश्वर ठाकुर, राजेन्द्र सिंह राठौर, सुनील यादव, लेखाधिकारी प्रशांत कुमार दत्त, विधि अधिकारी सियाराम शर्मा, कनिष्ठ अभियंता आरिफ अहमद खान और लाइन सहायक रामदास राय (सभी ट्रांसमिशन कंपनी) को पुरस्कृत किया। 

कार्यपालन अभियंता सुभाष राय, हिमांशु अग्रवाल, खुशियाल शशिवंशी, सहायक अभियंता वरूण सारस्वत, हुकुम चंद यादव, दिनकर दुबे, नितीश प्रजापति और कनिष्ठ अभियंता अर्जुन सिंह (सभी पूर्व क्षेत्र कंपनी)। सहायक अभियंता शिवानी अग्रवाल, मुकेश जाटव, निरंजन सनोडिया, कनिष्ठ अभियंता चंद्रशेखर, साधना कोवर्ती, रंजीत भदौरिया, आदित्य सिंह यादव, तकनीकी कर्मी दिवेश गौतम, नारायण सिंह धाकड़ और कुबेर सिंह सोलंकी (सभी मध्य क्षेत्र कंपनी) तथा अधीक्षण अभियंता अनिल नेगी, डीएन शर्मा, संजय मालवीय, कार्यपालन अभियंता विनय प्रताप सिंह, सहायक अभियंता रवि मालवीय, आशीष कुमार तिवारी, नवीन गुप्ता, कनिष्ठ अभियंता रवि वर्मा, आनंद कुरवंशी और मैनेजर आईटी विभोर पाटीदार (सभी पश्चिम क्षेत्र) को पुरस्कृत किया।

जब विद्युत कंपनियों के तकनीकी कार्मिकों के साथ ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने परम्परागत पत्तल और दोने में सहभोज किया और साथ में गर्मी के इस मौसम में आम का पना और छाछ परोसी गई, तब तकनीकी कार्मिकों के चेहरे पर एक अद्भुत भाव देखा गया। ऊर्जा मंत्री भोजन करते हुए तकनीकी कर्मियों से उनकी मैदानी कठिनाईयों के बारे में बात करते रहे। तकनीकी कर्मियों को पहली बार ऐसा महसूस हुआ कि उनका मुखिया उनके साथ उनकी शैली में भोजन कर रहे हैं और सुख-दुख बांट रहे हैं। 

यह दृश्य था मध्यप्रदेश की समस्त विद्युत कंपनियों के अभियंताओं और कार्मिकों के ‘आत्म-निरीक्षण’ पर केन्द्रित तीन दिवसीय ‘मंथन-2022’ के उद्घाटन दिवस पर तरंग प्रेक्षागृह में मध्यान्ह भोजन के अवसर का। श्री तोमर ने तकनीकी कार्मिकों की मूलभत सुविधाओं, सुझावों एवं विद्युत व्यवस्था को और अधिक सुदृढ़-सुगम बनाने की दिशा में विस्तृत चर्चा की।

ऊर्जा मंत्री की यही विशेषता उनकी लोकप्रियता भी है कि वे विद्युत कंपनियों के उत्पादन, पारेषण एवं वितरण क्षेत्र के उन कार्मिकों तक पहुँचने का प्रयास करते हैं, जो कि अंतिम छोर तक के उपभोक्ता तक बिजली पहुँचाते हैं। प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय दुबे, मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक अनय द्विवेदी, पावर ट्रांसमिशन कंपनी के प्रबंध संचालक सुनील तिवारी, पावर जनरेटिंग कंपनी के प्रबंध संचालक मनजीत सिंह और विद्युत कंपनियों के अन्य वरिष्ठ अभियंता उपस्थित थे।