हिन्दू संगठन हेतु हिन्दू राष्ट्र अधिवेशन ग्वालियर में संपन्न…

हलाल अर्थव्यवस्था भारत के सामने सबसे बड़ी चुनौती : श्रीराम काणेजी

ग्वालियर। विश्वस्तर पर हलाल अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है। आरंभ में केवल मांस तक सीमित यह हलाल व्यवस्था अब ‘हल्दीराम’ के नमकीन,चाय, सौन्दर्यप्रसाधन, आशीर्वाद आटा, अमूल आइस्क्रिम हलाल प्रमाणित हो चुके है। हलाल अर्थव्यवस्था विश्वस्तर पर 7 ट्रिलियन डॉलर पार कर चुकी है। जागृत हिंदुओं द्वारा हलाल उत्पादोंका सम्पूर्ण बहिष्कार ही एकमात्र प्रभावी उपाय है। ऐसा उद्बोधन समिति द्वारा लश्कर के सिन्धी समाज धर्मशाला में रविवार, १७ अप्रैल को आयोजित हिन्दू राष्ट्र अधिवेशन में मध्यप्रदेश धर्मप्रचारक श्रीराम काणेजी ने किया। जिसमें ८ संगठनों के ५४ प्रतिनिधि उपस्थित थे। हिन्दू राष्ट्र स्थापना के लिए उज्जैन, इंदौर, जबलपुर एवं भोपाल के बाद ग्वालियर में मध्यप्रदेश का पांचवा अधिवेशन हिन्दू जनजागृति समिति के तत्त्वाधान में संपन्न हुआ। 

सच्चीदानंदनाथ सद्गुरु ढोली बुआ महाराज जी ने कहा हिंदू संगठन हेतु अपना धर्म समझ कर लेना बहुत आवश्यक है। अगर हम सभी अपने धर्म का आचरण व्यक्तिगत जीवन में नियमित रूप से करें, तो हम प्रथम हिंदू कहलाने योग्य हो जाएंगे। यही संगठन की जड़ है। हिंदू राष्ट्र हेतु हमें संगठित प्रयास करने होंगे मठ उसमें पूरी तरह से सहयोग देगा। सिन्धी समाज के महामंडलेश्वर पू. रामेश्वरानंदजी (पू.दादाजी) महाराज जी ने कहा सिंधी समाज ने विभाजन के समय अपना सब कुछ खो दिया था, कितने सारे अत्याचार सहे थे, धर्म के नाम पर बंटवारा हुआ था। आज फिर इस देश में अपनी माता बहने असुरक्षित है,  गौमाता असुरक्षित है इसलीये हिंदुराष्ट्र की आवश्यकता है।  हिंदू जनजागृति समिति बहुत ही सराहनिय कार्य कर रही है ऐसा कार्य हर गाँव मे शुरू होना आवश्यक है। हिंदू संगठनों को अपने कार्य पद्धति पर पुनः विचार करने का यह समय है मैं सभी से अनुरोध करता हूं केवल जुलूस निकालने से धर्म की जागृति नहीं होगी धर्म जागरण हेतु सभी संगठनों को एकत्रित कर हिंदू राष्ट्र की मांग बुलंद करनी होगी। 

हिंदू महासभा इसके लिए लगातार कई वर्षों से प्रयास कर रही है। ऐसा हिंदू महासभा के प्रांत अध्यक्ष लालजी शर्माजी ने कहा। हिन्दू सेना के प्रदेश अध्यक्ष संजय अग्रवालजी ने कहा हिंदुओं को बांटना आसान हो गया है, कभी जाति  के नाम तो कभी दल के नाम पर। हिंदू राष्ट्र स्थापना हेतू हमे अपनी  रणनीती तैयार करनी होगी। सनातन संस्था धर्मप्रचारक अभय वर्तकजी ने कहा हिंदू 8 राज्यों मे अल्पसंख्यक बन गए है। जुलूस निकालकर तथा कश्मीर फाइलस् पर संतुष्ट ना हो, वास्तविकता को सामने रखकर योजना बनानी होगी। योगशिक्षिका बुली सेंगरजी ने कहा नारी अब अबला नहीं, जीवन के हर क्षेत्र में वह प्रभावी कार्य कर रही है। “जयतु जयतु हिन्दू राष्ट्रम्” का उद्घोष करते हुए हिंदुराष्ट्र बनाने का संकल्प उपस्थित सभी संगठनों ने लिया।