खरगोन में रामनवमी पर हिंसा के बाद कई इलाकों में कर्फ्यू…

दंगाइयों के लिए MP में कोई जगह नहीं : CM शिवराज


खरगोन। राम नवमी के अवसर पर चल समारोह में समुदाय विशेष के लोगों ने पथराव कर दिया, जिससे वहां भगदड़ मच गई। दोनों पक्षों का गुस्सा बढ़ा तो विवाद ने हिंसक रूप ले लिया। पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। स्थिति सामान्य होने के बाद चल समारोह पुनः निकाला गया। वहीं, इस मामले में गुहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि गुनहगारों से सख्ती से निपटा जायेगा। जिन घरों से पत्थर आए हैं, उन घरों को पत्थर का ढेर बनाएंगे। मध्यप्रदेश में कानून का राज है और सांप्रदायिक सौहार्द को किसी कीमत पर बिगड़ने नहीं दिया जाएगा। आंसू गैस के गोले दागे, फायर से की पानी की बौछार। 

खरगोन जिले में राम नवमी के अवसर पर प्रतिवर्ष जुलूस निकाला जाता है। इस साल भी चल समारोह में झाकियां करतब करते हुए तालाब चौक से होकर गुरुवा दरवाजा जा रही थीं। विवाद के बाद असामाजिक तत्वों को खदेड़ने के लिए पुलिस को फायर फाइटर से पानी की बौछार के साथ आंसू गैस के गोले भी दागने पड़े। पथराव की स्थिति के बाद देर रात तक असामाजिक तत्वों का तांडव चलता रहा। परंतु पुलिस बल नहीं होने से स्थिति काबू में नहीं आ सकी। देर रात तक शहर के सराफा बाजार भाट वाड़ी मोहल्ला संजय नगर इंदिरा नगर में आगजनी का होती रही। 


वहीं आगजनी के बीच असामाजिक तत्वों द्वारा किए जा रहे पथराव के बीच किसी ने फायरिंग कर दी। जिसमे एसपी सिद्धार्थ चौधरी के पैर में गोली लग गई। अध्यक्ष, सांसद, विधायक को कलेक्टर ने नहीं दिया महत्व: एक ओर शहर की कई बस्तियां जल रही थीं। वहीं भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष श्याम महाजन, सांसद गजेंद्र पटेल विधायक रवि जोशी सहित कांग्रेस भाजपा कार्यकर्ताओं की कलेक्टर की दो घंटे चर्चा चलती रही, परंतु चर्चा बेनतीजा रही। भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष, सांसद, कांग्रेस विधायक और अन्य पदाधिकारी हाल में बैठे रह गए और कलेक्टर अपनी गाड़ी में बैठ कर चलती बनी।