झांसी में वर्ष 2012 में दर्ज हुआ था अज्ञात हत्या का प्रकरण…

पुलिस द्वारा गिरफ्तार किये गये ट्रिपल मर्डर के आरोपी पर एक और हत्या का हुआ खुलासा

मृतक

ग्वालियर। दिनांक 16.03.2022 को क्राईम ब्रांच व थाना बिलौआ पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा पकड़े गए 36 लाख रूपये की धोखाधड़ी एवं ट्रिपल मर्डर के मुख्य आरोपी के विरुद्ध थाना बिलौआ में अपराध क्रमांक 96/13 धारा 420,467,468,471,120बी का पंजीबद्ध किया गया था। उक्त प्रकरण में आरोपी 10 साल से फरार था, पकड़े गए उक्त आरोपी ने पूछताछ में बताया था कि दिनांक 31.12.2011 को जिला ग्वालियर के थाना कोतवाली क्षेत्रान्तर्गत बालाबाई के बाजार में रहने वाला मनोज गहलोत की उक्त आरोपी और उसकी प्रेमिका जो मनोज गहलोत की पत्नी थी ने आरोपी के साथ मिलकर थाना बड़ागांव जनपद झांसी क्षेत्र में पंप हाउस नहर के किनारे बीयर में नशे की गोली मिलाकर हत्या कर दी थी और लाश को नहर में बहा दिया था। 

आरोपी द्वारा बताये गये उक्त हत्या की बारदात की तस्दीक हेतु वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ग्वालियर अमित सांघी द्वारा क्राईम ब्रांच व थाना बिलौआ की संयुक्त टीम को मौके पर भेजने हेतु अति. पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) राजेष डण्डौतिया को निर्देशित किया गया। अति. पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) द्वारा अति. पुलिस अधीक्षक ग्रामीण जयराज कुबेर से समन्वय स्थापित कर क्राईम ब्रांच तथा थाना बिलौआ पुलिस की संयुक्त टीम को आरोपी द्वारा बताये गये तथ्यों की तस्दीक हेतु भेजा गया। अति. पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) द्वारा स्वयं पुलिस टीम की माॅनीटरिंग करते हुए डीएसपी अपराध रत्नेश सिंह तोमर तथा नागेन्द्र सिंह सिकरवार एवं एसडीओपी डबरा विवेक शर्मा के मार्गदर्षन में थाना प्रभारी क्राईम ब्रांच तथा थाना प्रभारी बिलौआ के नेतृत्व में पुलिस टीम द्वारा की गई पूछताछ में पता चला था कि साल 2013 में आरोपी ने मऊरानीपुर थाना क्षेत्र में ट्रिपल मर्डर किया था, जिसमेें उसके द्वारा अपनी प्रेमिका व दो बच्चों की निर्मम हत्या कर फरार हो गया था। 

क्राइम ब्रांच ग्वालियर की टीम और बिलौआ थाने की फोर्स के अथक प्रयासों से आरोपी को हत्या के स्थान पर ले जाकर घटनास्थल पर सीन का रिक्रएषन किया गया तथा पुलिस टीम द्वारा थाना बड़ागांव जनपद झांसी से भी उक्त हत्या के संबंध में तस्दीक की गई तो आरोपी के द्वारा हत्या की घटना घटित करने की बात सही पाई गई। थाना बड़ागांव में अपराध क्रमांक 03/12 धारा 302, 201 आईपीसी का अज्ञात व्यक्ति की अज्ञात लोगों द्वारा हत्या करके जुर्म छुपाने के लिए शव को नहर में बहा दिया जाने का दर्ज है। थाना बड़ागांव पुलिस को दिनांक 31.12.2011 को उक्त व्यक्ति का शव मिला था। उक्त अज्ञात हत्याकाण्ड का खुलासा क्राइम ब्रांच एवं बिलौआ की संयुक्त कार्यवाही तथा अथक प्रयासों से 10 वर्षों बाद किया गया।