संत रमेश भाई के दर्शन और आशीर्वाद ले कृतार्थ हुए श्रद्धालु…

धर्म का काम बहकाना नहीं महकाना है : संत रमेशभाई

ग्वालियर। धार्मिक बेवकूफियां से ज्यादा संसार में कुछ नहीं है समझाने वाले लोग और समझने की इच्छा दुर्लभ है यह धरती सबसे ज्यादा धार्मिक कारणों से रक्त रंजित हुई है। धर्म का काम बहकाना नहीं महकाना है। यह विचार संत रमेश भाई ओझा ने फूल बाग पर आयोजित  साईं धाम में पांचवें दिन की कथा के दौरान विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि सभी धर्मों में धार्मिक बेवकूफियां हो रही हंल धर्म का काम धर्मांतरण नहीं धर्म को जो कन्वर्ट कर दे धर्म वह है।जो अल्लाह और कुरान को ना माने वह काफिर इसे मान भी लें तो आगे उसे जीने का अधिकार नहीं यह धर्म नहीं है। उन्होंने कहा कि सिर्फ भजन कीर्तन भागवत नहीं है। 

भजन कीर्तन के अलग से कार्यक्रम होने चाहिए भागवत में शास्त्र चर्चा आवश्यक है। आध्यात्मिक गुरुओं को लेकर धर्म की यात्रा करें अन्यथा आप अंधकारमय जंगल में भटक सकते हैं। भटके हुए लोग धर्म को  गालियां देते हैं जबकि वह धर्म के मर्म को समझ ही नहीं पाते दर्शकों ने कहा है जैसे-जैसे विज्ञान तकनीक का प्रभाव बढ़ेगा कोई धर्म नहीं रहेगा रसैल कहते हैं कि फिर किसी नई धर्म का उदय होगा इसमें मैं आगे जोड़कर कहता हूं जो नया धर्म बनेगा उसमें हर धर्म की अच्छी बातें होंगी लेकिन सबसे अधिक समावेश हिंदू और बौद्ध धर्म से होगा क्योंकि यह उदार हैं लेकिन कई लोगों ने इस उदारता को बेवकूफ भी मान लिया है। 

उन्होंने कहा कि कन्वर्ट होना है तो अच्छे इंसान के रूप में हो धर्मांतरण उचित नहीं है साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि व्यासपीठ सभी धर्मों का आदर करती है लेकिन धर्मांतरण का पक्षी नहीं ले सकती जैसे बिना अध्यात्मिक गुरु के धर्म जंगल में भटकने जैसा है यदि आपकी किसी व्यक्ति में आस्था नहीं बन रही तो ग्रंथ कोही गुरु बना लो सिख धर्म में तो ग्रंथ को गुरु मान लिया गया है। लेकिन तथाकथित धार्मिक कौन है धर्म को जहर बनाने का काम किया है जबकि धर्म ऑक्सीजन है हमारे पौराणिक चरित्रों को समझे बिना अपने गंदे दिमाग से अश्लीलता देख रहे हैं। जबकि हर कथा कुछ न कुछ प्रेरणा भी देती है उन्होंने कहा कि कथा श्रवण के बाद मनन करें  जबकि हम कथा के बाद सांसारिक चर्चा में व्यस्त हो जाते हैं ।श्रवण आरंभ है इतिश्री नहीं कथा के माध्यम से हमें आत्म निवेदन तक पहुंचना चाहिए उन्होंने कहा कि संसार में परमात्मा को छोड़कर कोई भी पूर्ण नहीं है। 

हर व्यक्ति में कुछ ना कुछ दोष होते हैं जिन पर व्यक्ति विजय प्राप्त नहीं कर पाता लेकिन हमें दोषों को छोड़कर अच्छाइयों को ग्रहण करना क्योंकि हम भी पूर्ण नहीं है। संत श्री ने बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि भारत की प्रतिभाओं ने सारे संसार में अपने ज्ञान विज्ञान का डंका बजाया है यदि हम भ्रष्टाचार और स्वार्थ छोड़ दें और मानवता के लिए जुट जाएं तो भारत विश्व गुरु बनने के समीप है क्योंकि अभी दिल्ली में जो बैठा है जो भारत मां के काम आता है ओके पूजा करते हैं यह व्यक्ति पूजा नहीं है उसके समर्थकों के घोड़ों की योगिता की पूजा है उन्होंने कहा कि आप किसी को गुरु मत बनाओ क्योंकि आप किसी को बनाने वाले कौन होते हो आप कौन से से बन जाओ उन्होंने बताया कि वासुदेव गायत्री का इस्तेमाल कर नारद मुनि देव ऋषि बने उन्होंने कहा कि वेदों को समझने की क्षमता हर किसी में नहीं होती उनके लिए पुराण और इतिहास की रचना की गई है सुप्रीम कोर्ट यदि किसी को फांसी देता है तो राष्ट्रपति उसे दया की भीख दे सकता है ।

भागवत कथा वेद पुराणों में राष्ट्रपति हैं वह भगवान का रूप है यह ग्रंथ नहीं साक्षात गोविंद है नारद जी की किरणों से व्यास जी ने की रचना की उन्होंने देश के धर्माचार्य होते आह्वान करते हुए कहा कि व्यक्ति नहीं गद्दी का महत्व उसकी गरिमा बनाए रखना धर्म आचार्यों की जिम्मेदारी है ।

धर्म पीठ पर बैठने वालों को यह ध्यान रखना चाहिए कि जय जयकार आपकी नहीं धर्म की हो रही है इसलिए ऐसा कोई कृत्य ना करें धर्म आस्था को ठेस पहुंचे इस मौके पर कथा के मुख्य मार्गदर्शक अनूप मिश्रा, ऊर्जा विकास निगम के अध्यक्ष गिर्राज दंडोतिया, भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष लाल सिंह आर्य, पूर्व विधायक  बलवीर दंडोतिया,धर्मपुरी महाराज के संत रमेश लाल जी, बीज विकास निगम के पूर्व अध्यक्ष महेंद्र यादव ,नगर निगम के पूर्व सभापति बृजेंद्र सिंह जादौन, गंगाराम बघेल ,धीर सिंह तोमर, रिटायर आईएएस अधिकारी बी एम शर्मा ,साईं भक्त मंडल ट्रस्ट के अध्यक्ष योगेश शुक्ला, आनंद सावंत, संजय शर्मा, सुनील पटेरिया ,कुलदीप चतुर्वेदी, सहित हजारों हजार श्रद्धालु श्रोताओं ने कथा का आनंद उठाया।

संत रमेश भाई के दर्शन और आशीर्वाद ले कृतार्थ हुए श्रद्धालु

फोटो ग्वालियर ।रविवार को सुबह आईपीएस कॉलेज में बनाए गए संत रमेश भाई ओझा के अस्थाई निवास पर शहर के गणमान्य श्रद्धालु और कथा व्यवस्था में लगे कार्यकर्ताओं के लिए संत रमेश भाई ओझा से मिलन का कार्यक्रम रखा गया है इस मौके पर श्रद्धालुओं ने संत श्री से मिलकर उनका स्वागत सत्कार और सम्मान किया साथ ही अपनी जिज्ञासाओं का समाधान कर आशीर्वाद प्राप्त किया इस मौके पर भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी लोकेंद्र पाराशर पूर्व विधायक रमेश अग्रवाल कलेक्टर कौशलेंद्र विक्रम सिंह निगमायुक्त किशोर कार्निवाल महेश मुद्गल रामबाबू कटारे संजय शर्मा मानसिंह गुर्जर सतीश बोरे रिटायर्ड डीएसपी हरि सिंह यादव राजीव माहेश्वरी महेश लिख रहा ओम हरि सचिन मिश्रा राजेश शर्मा और कथा का मुख्य यजमान मूंदड़ा परिवार सहित श्रद्धालुओं ने संत श्री का आशीर्वाद लिया