आदर्श गांव गौ आधारित समृद्धि गोष्ठी आयोजित…

संतो से समृद्धि, गायों से बुद्धि आओ चलें गांव की ओर : श्री टावरी 

 

ग्वालियर। ग्वालियर की आदर्श गौशाला देश के लिये रोल मोडल है, इसे देश ही नहीं विदेशों में भी पहचान दिलाने का कार्य करूंगा। संतो के मार्गदर्शन में संचालित आदर्श गौशाला को गौ सेवा एवं गौ उत्पाद क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय केन्द्र बनाने की आवश्यकता है। यहंा आकर छात्र सेवा, संस्कार व्यापार के गुण सीख सकते हैं। उक्ताश्य के विचार से. आई..एस पूर्व सलाहकार योजना आयोग (रूरल बिजनेस हब फाउन्डेशन इंडिया) डाॅ. कमल टावरी ने लालटिपारा स्थित आदर्श गौशाला में आदर्श गाॅव गौ आधारित समृद्धि गोष्ठी में कहे।  

इसके साथ ही नगर निगम आयुक्त किशोर कन्याल ने सभी को स्वच्छता की शपथ दिलाई। इस अवसर पर आदर्श गौशाला का संचालन कर रहे हरिद्वार के संत स्वामी ऋषभ देवानंद, स्वामी प्रेमानंद, अध्यक्ष बीज निगम मुन्नालाल गोयल, नगर निगम आयुक्त किशोर कन्याल, जिला पंचायत सीईओ आशीष तिवारी, नोडल अधिकारी गौशाला पवन सिंघल, गौशाला प्रभारी राजेन्द्र सिंह गुर्जर, मधुसुदन शर्मा, सुरेश पाठक सहित रिटा. अधिकारी, शिक्षक, विद्यार्थी गौ भक्त उपस्थित रहे।  

कार्यक्रम का समापन वंदेमातरम गीत के साथ किया गया। श्री टावरी के आदर्श गौशाला का भ्रमण कर गायों के रखरखाव, गौ उत्पाद, गौ चिकित्सा और बागवानी को देखकर प्रशंसा जाहिर कर संतो का आभार प्रगट करते हुए कहा कि संतो से समृद्धि, गायों से बुद्धि आओ चलें गांव की ओर यह बात गौ शाला के भ्रमण से सिद्ध होती है। गौ उत्पाद, गौ संवर्धन के क्षेत्र में आगे बडाने की आवश्यकता है।  

इसके साथ ही स्वामी ऋषभ देवानंद महाराज ने कहा कि गौ भक्तों समाजिक नागरिकों के सहयोग से गौ शाला को आदर्श गौ शाला तो बनाया ही है इसके साथ ही उनके सहयोग से आमजन को गौ उत्पाद से बने सामान के उपयोग के लिये प्रेरित किया जा रहा है। जिससे गौ शाला आत्मनिर्भर बन सके। इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त किशोर कन्याल ने कहा कि गौ शाला को पर्यटन की दृष्टि से विकशित किया जा रहा है। जिसके लिये होटल, रेस्टोरेंट में गौ शाला के फोल्डर रखे जा रहे हैं। जिससे अधिक से अधिक लोग गौ शाला आये और गौ शाला को देखें।  

इसके साथ ही गौ शाला में गौ उत्पाद पर भी विशेष कार्य किया जा रहा है। जिससे जन-जन तक गौ उत्पाद पहुंचे। जिला पंचायत सीईओ आशीष तिवारी ने इस अवसर पर कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में गौ शालाओं का विस्तार किया जा रहा है। निराश्रित गौ वंश गौ शाला में रखकर ग्रामीणों को भी एक आय का साधन मिल सके इसके लिये कार्य किया जा रहा है। रानी घाटी में संतो के मार्गदर्शन में ग्रामीणों के सहयोग से बनाई गई गौशाला प्रदेश में एक रोल मोडल का कार्य कर रही है।