अगली तिथि 17 जनवरी निर्धारित…

MP हाईकोर्ट ने PSC परीक्षा को चुनौती पर सुनवाई बढ़ाई

 

जबलपुर। हाई कोर्ट ने पीएससी प्रारंभिक मुख्य परीक्षा-2019 प्रारंभिक परीक्षा-2020 की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई बढ़ा दी है। मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमठ जस्टिस पुरुषेंद्र कुमार कौरव की युगलपीठ ने अगली सुनवाई तिथि 17 जनवरी निर्धारित की है।

युगलपीठ के सदस्य न्यायाधीश पुरुषेंद्र कुमार कौरव पीएससी मामले में पूर्व में महाधिवक्ता रहते हुए राज्य शासन की ओर से पैरवी कर चुके हैं, अत: कोर्ट ने नई युगलपीठ के समक्ष अगली सुनवाई की व्यवस्था दे दी है। कर्मचारी संगठन अपाक्स सहित 47 याचिकाएं दायर की गई हैं। इनमें पीएससी के परीक्षा नियमों में संशोधन, प्रांरभिक मुख्य परीक्षा-2019 प्रांरभिक परीक्षा-2020 की संवैधानिक वैधता को भी चुनौती दी गई। पिछली सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से कोर्ट को अवगत कराया गया था कि विवादित परीक्षा नियम में संशोधन को निरस्त करने की प्रक्रिया पूर्ण हो गई है।

वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्न्खा, अधिवक्ता रामेश्वर सिंह ठाकुर ने दलील दी कि सरकार ने नियमों में संशोधन किया, लेकिन पीएससी परीक्षा 2019 के रिजल्ट संशोधित नियम लागू किए बिना पुराने नियमों के तहत ही घोषित कर दिए गए हैं।मंगलवार को सरकार की ओर से शासकीय अधिवक्ता बीडी सिंह हस्तक्षेपकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता आदित्य संघी ने पक्ष रखा।