मूल अभियंताओं ने दी काम बंद करने की चेतावनी…

MP में ऊर्जा मंत्री के OSD पर मेहरबानी, दो ग्रेड बढ़ाकर बनाया मुख्य महाप्रबंधक

 

भोपाल। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के ओएसडी (विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी) शैलेंद्र सक्सेना को एक साथ दो ग्रेड बढ़ाकर पावर मैनेजमेंट कंपनी में मुख्य महाप्रबंधक (राजस्व) बना दिया गया है। ऊर्जा विभाग ने प्रतिनियुक्ति पर यह जिम्मेदारी 28 दिसंबर को दी है। इस मामले में विद्युत मंडल अभियंता संघ ने ऊर्जा मंत्री को पत्र लिखकर विरोध दर्ज कराया है काम बंद करने की चेतावनी भी दी है ये अभियंता बीते वर्ष बलजीत सिंह खनूजा, नवीन कुमार कोहली राकेश नायक को पावर मैनेजमेंट कंपनी में प्रतिनियुक्ति देकर उच्च पद देने से पहले ही खफा थे अब सक्सेना को दो ग्रेड बढ़ाकर नई जिम्मेदारी देने से इनकी नाराजगी और बढ़ गई है।

 यह है मामला -

शैलेंद्र सक्सेना : मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी में उप महाप्रबंधक हैं। पूर्व में विद्युत नियामक आयोग में सदस्य सचिव रह चुके हैं। कुछ महीने से ऊर्जा मंत्री के ओएसडी थे। 28 दिसंबर 2021 को उन्हें पावर मैनेजमेंट कंपनी में मुख्य महाप्रबंधक बनाया गया है। नियम से यह पद उन्हें महाप्रबंधक, अतिरिक्त मुख्य महाप्रबंधक के पदों पर पदोन्नति के बाद मिलना था।

 बलजीत सिंह खनूजा : जनरेशन बिजली कंपनी में अधीक्षण यंत्री हैं। प्रतिनियुक्ति देकर इन्हें मुख्य महाप्रबंधक बनाया गया है।

राकेश नायक : मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी में उपमहाप्रबंधक हैं, इन्हें प्रतिनियुक्ति देकर महाप्रबंधक बनाया गया है।

नवीन कुमार कोहली : पावर जनरेशन कंपनी में अधीक्षण अभियंता हैं। पावर मैनेजमेंट कंपनी में प्रतिनियुक्ति देकर मुख्य महाप्रबंधक बनाया गया है।

 यह है नियम-


ऊर्जा विभाग बिजली कंपनियों में प्रतिनियुक्ति दे सकता है। सामान्यतौर पर समान पदों पर ही प्रतिनियुक्ति देने के नियम हैं। विशेष मामलों में मूल पद से एक ग्रेड बढ़ाकर प्रतिनियुक्ति दी जाती रही है। प्रतिनियुक्ति अवधि खत्म होने पर संबंधित सेवक को उनके मूल पद पर सेवाएं देनी पड़ती हैं।

 इनका कहना है -

दो से तीन ग्रेड बढ़ाकर प्रतिनियुक्ति दी गई है। ऊर्जा मंत्री को पत्र लिखकर विरोध दर्ज करा चुके हैं। यदि आदेश वापस नहीं लिया गया तो पावर मैनेजमेंट कंपनी के अभियंता काम बंद करेंगे - वीकेएस परिहार, महासचिव मप्र विद्युत मंडल अभियंता संघ

---------

मूल पद से ऊपर ग्रेड बढ़ाकर प्रतिनियुक्ति देना उचित नहीं है। ऐसे नियम भी नहीं है। ऐसा करने से वरिष्ठ अधिकारियों के प्रति शासकीय सेवकों का विश्वास कम होता है। वे हतोत्साहित होते हैं - आरजे श्रीवास्तव, सेवानिवृत्त महाप्रबंधक/अधीक्षण यंत्री

-----------

प्रतिनियुक्ति समान पदों पर दी जाती है या ज्यादा से ज्यादा एक ग्रेड बढ़ाकर दे सकते हैं। एक दम से दो ग्रेड बढ़ाकर प्रतिनियुक्ति देने के नियम तो विशेष अधिकारों के तहत भी नहीं हैं। ऐसा नहीं होना चाहिए - एम चिंचोलकर, सेवानिवृत्त मुख्य महाप्रबंधक पावर मैनेजमेंट बिजली कंपनी

---------

शैलेंद्र सक्सेना को प्रतिनियुक्ति के बाद ग्रेड बढ़ाकर उच्च पद पर पदस्थ करने की जानकारी मुझे नहीं है। मैं इस संबंध में ऊर्जा विभाग बिजली कंपनी के अधिकारियों से चर्चा कर उचित कार्यवाही करूंगा - प्रद्युम्न सिंह तोमर, ऊर्जा मंत्री मप्र शासन