बिहार में ट्रैक पर उपद्रव मामले में 8 को जेल…

बिहार में आगजनी करने वाले 1200 अज्ञात छात्रों पर FIR

 

बिहार में RRB-NTPC के रिजल्ट को लेकर विरोध कर रहे छात्रों पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। भोजपुर में 700 और नवादा में 500 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया गया है। दोनों जिलों को मिलाकर कुल आठ लोगों को अरेस्ट कर जेल भी भेज दिया गया है। वहीं, गया में ट्रेन की बागियों में आगजनी करने वालों की जांच में पुलिस जुट गई। वीडियो फुटेज और संदिग्धों से पूछताछ के आधार पर उपद्रव करने वालों की तलाश की जांच की जा रही है। बता दें, गया जंक्शन पर पुलिस के निकलने के बाद स्टूडेंट्स फिर से आए और ट्रेन की तीन बोगियों में आग लगा दी थी। इसके पहले भी कुछ बोगियों को आग के हवाले किया गया था।

इसके बाद हालात को काबू करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़े थे। भोजपुर पुलिस ने अब 700 अज्ञात छात्रों पर FIR दर्ज की है। इसमें RPF थाने में 200 छात्रों पर और GRP थाने में 4 नामजद सहित 500 पर FIR दर्ज की गई है। यहां चार नामजद आरोपियों अरुण कुमार पंडित, विष्णु शंकर पंडित, वरुण पंडित और रवि शंकर कुमार पंडित को जेल भेज दिया गया है। वहीं, नवादा के रेलवे प्लेटफॉर्म पर हंगामा करने के मामले में पुलिस ने 500 अज्ञात लोगों पर केस दर्ज किया है। यहां 32 लोगों को हंगामा करने के आरोप में पुलिस ने हिरासत में लिया था। जिसमें से 4 को जेल भेज दिया और 28 लोगों को PR बांड भरा कर छोड़ दिया।

छात्रों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने दोपहर साढ़े तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि हमारे पास परीक्षा को लेकर कोई शिकायत नहीं आई। हमने जांच कमेटी बनाई है और वो इसकी जांच करेगी। कमेटी 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट सौंप देगी। उन्होंने छात्रों से अपील की कि रेलवे आपकी ही संपत्ति है और इसकी सुरक्षा करिए। रेल मंत्री ने कहा कि कुछ लोग छात्रों के प्रदर्शन का गलत फायदा उठा रहे हैं। छात्रों को भ्रमित किया जाए, ये मामला देश का है। छात्रों से अपील है कि आप अपना विषय हमारे सामने रखिए और संवेदनशीलता के साथ इसे देखेंगे।