ग्वालियर के जंगलों में एक बार फिर…

अवैध खनन करने से रोका तो माफिया ने वन अमले पर किया हमला

ग्वालियर के जंगलों में एक बार फिर वन अमले पर माफिया हावी हैं। अवैध खनन करने वालों को जब रोका, तो उन्होंने वन अमले को घेरकर लाठी-डंडों से पीटा। वर्दी तक फाड़ दी। वनकर्मी जान बचाकर भागे। घटना वन चौकी छोड़ा स्थित अमरधा पहाड़ी की है। घायल वनकर्मियों ने अफसरों को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन तब तक माफिया खनन किया गया पत्थर समेटकर भाग गए। पुलिस ने जंगल में सर्चिंग भी की, लेकिन उनका पता नहीं चला। पुलिस ने हमलावरों के खिलाफ केस दर्ज किया है। शहर के नाका चंद्रवदनी के रहने वाले अतुल सिंह परिहार पुत्र हाकिम सिंह वन विभाग में पदस्थ हैं। उनकी तैनाती घाटीगांव के जंगल में पनिहार स्थित छोड़ा गांव वन चौकी पर है। 

फिलहाल, वन प्राणियों के गणना के काम में वन अमला लगा है। अतुल सिंह वन्य प्रणियों की गणना के लिए टीम के साथी गिर्राज व रोहित सिंह के सर्चिंग कर रहे थे। अभी वह अमरधा गांव की तरफ पहुंचे, तो यहां कुछ लोगों को पत्थर का अवैध उत्खनन करते हुए देखा। इस पर वन विभाग की टीम ने खनन कर रहे लोगों को रोकने के लिए प्रयास किए। जैसे ही, वन अमले ने खनन कर रहे लोगों को रोकने का प्रयास किया, तो खनन माफिया ने उन पर हमला बोल दिया। कुछ देर में झाड़ियों में से और भी कई लोग निकल आए। वन अमला अकेला पड़ गया। माफिया ने लाठी डंडों से पीटा, जिससे उनकी वर्दी फाड़ दी। मामले का पता चलते ही पुलिस मौके पर पहुंची, लेकिन उससे पहले ही हमलावर भाग चुके थे। पुलिस ने घायल वनकर्मियों को अस्पताल पहुंचाया। 

साथ ही, उनका मेडिकल कराकर शिकायत पर हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इससे पहले भी खनन माफिया ने तिघरा क्षेत्र में कार्रवाई के लिए पहुंची वन विभाग की टीम पर हमला कर फायरिंग कर चुके हैं। इसी तरह, रेत माफिया पर कार्रवाई के दौरान माफिया ने पुरानी छावनी थाना प्रभारी पर ट्रैक्टर चढ़ाने का प्रयास किया था। घाटीगांव में भी कई बार हमले कर चुका है। मामले में पनिहार थाना प्रभारी प्रवीण कुमार शर्मा का कहना है कि वनकर्मियों की शिकायत पर आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर तलाश की जा रही है। जल्द ही, आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। कुछ लोगों के नाम सामने आए हैं। उनकी तलाश की जा रही है।