किसानों ने किया कलेक्ट्रेट पर प्रदर्षन…

अगर जानवारों की रोकथाम नही की तो कलेक्ट्रेट में भरेगें जानवर : किसान

 

ग्वालियर। आवारा जानवर फसलें चौपट कर रहें है। किसान रात रात भर जागकर अपने खेतों की रघवाली कर रहें है। उधर प्रषासन की गौषालाएं सरकारी फाइलों में चल रही है और गायों का चारा सत्ताधारी नेता डकार रहें है। परेषान किसानों ने आज मध्यप्रदेष किसान सभा के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पर प्रदर्षन किया। एसडीएम सीबी प्रसाद को सौपें ज्ञापन में किसानों ने अपनी समस्याओं से अवगत कराते हुए कहा कि कलेक्टर के आदेष पर धान खरीदी से भौतिक सत्यापन करने की शर्त मुसीबत बन चुकी है, जिस खेत में धान लगी थी अब उस खेत में गेहू की फसल खडी है अब धान का सत्यापन कैसे होगा। इसी प्रकार से जिन किसानों का बाजरा 15 दिन पहले खरीदी केन्द्रों पर तौल चुका है अब उसे अमानक बताया जा रहा है।

इन वजहो किसान एक एक सप्ताह से ट्रॉलीयों में फसल लेकर खरीदी केन्द्रों पर पडा हुआ है सर्दी की मार झेल रहा है मजबूरी में पटवारीयों को पैसा देकर अपनी फसल का सत्यापन करवा रहा है। इन समस्याओं पर आज कलेक्ट्रेट पहुचें किसानों ने जमकर नारेबाजी करते हुए अपने रोष का इजहार किया। इस अवसर पर हुई सभा को सम्बोधित करते हुए किसान नेता अखिलेष यादव ने प्रषासन को चेतावनी दी है कि अगर आवारा जानवरों  की तत्काल प्रभाव से रोकथाम नही की गई तो अब जानवरों को लेकर कलेक्ट्रेट में ही जमा कराया जायेगा।

प्रदर्षन का नेतृत्व किसान नेता पीपी शर्मा, सिद्वेष्वर शर्मा, के अलावा सुग्रीव सिंह कुषवाह, रामबाबू जाटव, रामकिषन सिंह कुषवाह, तलविंदर सिंह, गुरदीप सिह, जसविंदर सिंह, राहुल सिंह यादव, मोहन सिंह जाटव, षिवचरन पटेल, सोवरन सिंह जाटव, आदि कर रहें थे। सीटू नेता रामविलास गोस्वामी, पूर्व पार्षद भगवान दास सैनी, युवा नेता यूसुफ अब्बास, आबिद अली, एवं कृष्ण बघेल ने भी किसानों के समर्थन में कलेक्ट्रेट पहुच कर प्रदर्षन में भागीदारी की। एसडीएम सीबी प्रसाद ने फसल खरीदी मे रही समस्याओं के तत्काल प्रभाव से निराकरण का आष्वासन दिया। इसके अलावा उन्हे यह भी अवगत कराया गया कि ग्राम विक्रमपुर में गौषाला केवल कागजों में चल रही है, इसके अलावा अन्य गोषालाओं में भी भारी फर्जीवाडा किया जा रहा है अगर किसान गायों को लेकर गौषाला जाते है तो उन्हे लेने से मना कर दिया जाता है। एसडीएम ने इन षिकायतों की जांच कर निराकरण के भी आष्वासन दियें है।