मुख्यमंत्री कोविड बाल सेवा योजना के तहत…

CM शिवराज ने कोविड-19 से अनाथ हुए बच्चों के साथ मनाई दिवाली

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गुरुवार को उन बच्चों के साथ दिवाली मनाई जो कोविड-19 की वजह से अनाथ हो गए थे। गुलाब के फूल के साथ उनका स्वागत किया गया। हाथ से मिठाई खिलाई और गिफ्ट भी बांटे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना चौहान ने गुरुवार को उन बच्चों के साथ दिवाली मनाई जो कोविड-19 की वजह से अनाथ हो गए हैं। राज्य में लागू मुख्यमंत्री कोविड बाल सेवा योजना के तहत 1,365 बच्चे चुने गए हैं। इनमें से चयनित 50 बच्चों ने गुरुवार को मुख्यमंत्री के साथ भोजन किया। इस दौरान मुख्यमंत्री निवास पर इन बच्चों का स्वागत गुलाब के फूल से किया गया। 

मुख्यमंत्री और उनकी पत्नी ने खुद अपने हाथों से बच्चों को खाना खिलाया। साथ ही उनके हाथ से खाया भी। बाद में उनकी पसंद के गिफ्ट भी वितरित किए। शिवराज ने इन बच्चों को प्यार-दुलार किया। भरोसा दिलाया कि आप खुद को अकेला न समझें। पूरी हिम्मत के साथ जीवन जिएं। सरकार आपके साथ है। मामा भी आपके सुख-दुख में शामिल है और हमेशा रहेगा। मुख्यमंत्री ने इस दौरान अन्य जिलों के बच्चों से भी वर्चुअली संवाद किया। मुख्यमंत्री निवास में आयोजित कार्यक्रम में 10 वर्ष से कम आयु के 10 बच्चे, 11 से 15 आयु वर्ष के 23 बच्चे और 16 वर्ष से अधिक आयु के 33 बच्चों ने भाग लिया। 

मुख्यमंत्री चौहान ने बच्चों से कहा कि मैं आप सबका कष्ट जानता हूं। माता-पिता अमूल्य पूंजी होते हैं। उनके न होने का एहसास तो होगा पर दुखी नहीं होना है। अच्छी तरह पढ़ाई और जीवन में कुछ अच्छा कार्य करके उनका नाम रौशन करना है। दुनिया के अनेक बड़े लोगों ने बचपन में ही माता-पिता को खो दिया था, लेकिन उन्होंने जीवन में विशिष्ट स्थान प्राप्त किया। बिती बातें भूलकर जीवन में आगे बढ़ना होता है। आप सब लोग भी आगे बढ़ें। आप लोगों को कोई कठिनाई नहीं आने दी जाएगी। आपकी पढ़ाई की समुचित व्यवस्था की गई है। आगे भी जीवन का मार्ग तय करने में सरकार आपके साथ रहेगी।

 मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री कोविड बाल सेवा योजना के हितग्राही बच्चों ने मुख्यमंत्री और साधना सिंह के साथ दीपक एवं मोमबत्तियां जलाकर दीपों का त्योहार मनाया। मुख्यमंत्री ने बच्चों के साथ न सिर्फ खूब बातें कीं, बल्कि उन्हें तरह-तरह के व्यंजन अपने हाथ से परोसे। भाव-विभोर होकर बहुत से बच्चों ने भी मुख्यमंत्री और साधना सिंह को अपने हाथ से चाऊमीन, पनीर की सब्जी, पुड़ी और पावभाजी खिलाई। इटारसी से आई नौशीन खान और होशंगाबाद से आई अपराजिता तिवारी ने 'तू कितनी अच्छी है माँ' गीत की प्रस्तुति दी। कक्षा दसवीं में पढ़ाई कर रही नौशीन ने कोरोना में अपनी मां को खोया है। उनके पिता का निधन पहले ही हो गया था।