अब गरीब भी करेंगे AC ट्रेन में सफर 

 जनरल डिब्बों को एसी कोच में बदलने की तैयारी में रेलवे



ट्रेनों के जनरल कोच में सफर करने वाले यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। अगर सबकुछ सही रहा तो यात्रियों को कम पैसे में ही एसी कोच में सफर का आनंद मिल सकता है। क्योंकि रेलवे जनरल कोच को एसी कंपार्टमेंट में बदलने की तैयारी में है। रेलवे लंबी दूरी की ट्रेनों में जनरल कोच यानी सामान्य डिब्बों को एसी डिब्बों (एसी कोच) में बदलने का विकल्प तलाश रहा है, ताकि उन यात्रियों को आरामदायक सफर प्रदान की जा सके जो अधिक किराया देने में सक्षम नहीं हैं। 

टीओआई ने सूत्रों के हवाले से बताया कि इन एसी डिब्बों में 100-120 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी और आम लोग इन डिब्बों में यात्रा कर सकें, इसलिए किराया काफी कम होगा। ये डिब्बे पूरी तरह से आरक्षित होंगे और इनमें स्वत: बंद होने वाले दरवाजे होंगे। अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि रेल मंत्रालय में इस योजना पर मंथन सत्र शुरू हो गया है। पहले एसी जनरल क्लास के कोच का निर्माण पंजाब के कपूरथला में रेलवे कोच फैक्ट्री में किए जाने की संभावना है।


हालांकि, राजधानी, शताब्दी और वंदे भारत जैसी प्रमुख ट्रेनों को छोड़कर सभी लंबी दूरी की ट्रेनों में कोरोना महामारी से पहले अनारक्षित सामान्य डिब्बे थे मगर अब ऐसे सभी कोच आरक्षित डिब्बों के रूप में चलते हैं। अधिकारियों ने कहा कि अगर आम यात्रियों को किफायती किराए पर एसी कोच में आराम से सवारी मिल सके तो यह रेलवे की प्राथमिकता होनी चाहिए।  रेलवे ने स्लीपर क्लास के डिब्बों में यात्रा करने का विकल्प चुनने वाले यात्रियों के लिए एसी-3 टियर से कम किराए वाले एसी इकोनॉमी क्लास कोच की पेशकश की। रेलवे ने एक ऑल-एसी इकोनॉमी ट्रेन की पहली सेवा भी शुरू की। बता दें कि अगर रेलवे की योजना सफल होती है तो आम आदमी को कम पैसे में ही एसी का आनंद मिल सकता है।