प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के क्रियान्वयन में…

 पथ विक्रेताओं को ऋण दिलाकर मध्य प्रदेश बना देश में अव्वल

 


भोपाल। कोरोना से प्रभावित अर्थव्यवस्था को गति देने और पथ विक्रेताओं को फिर से पैरों पर खड़ा करने के लिए लागू की गई प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के क्रियान्वयन में मध्य प्रदेश देश में अव्वल रहा है। प्रदेश सरकार ने चार लाख पांच हजार से ज्यादा शहरी पथ विक्रेताओं को बैंकों से दस हजार रुपये का ऋण दिलाने का काम किया है। करीब तीन लाख आवेदन और प्रक्रिया में हैं, जिनका जल्द निराकरण कराने के निर्देश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिए हैं।

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने बताया कि केंद्रीय आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय ने वर्ष 2021-22 के लिए जो लक्ष्य मध्य प्रदेश के लिए तय किया था, उसे शत प्रतिशत हासिल करने वाले राज्यों में मध्य प्रदेश पहले स्थान पर है। केंद्रीय सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने ट्वीट करके चार लाख पांच हजार पथ विक्रेताओं को ऋण वितरित करके कीर्तिमान स्थापित करने की जानकारी दी है। योजना सभी नगरीय निकायों में संचालित की गई थी।

कोरोना से प्रभावित पथ विक्रेताओं को फिर से रोजगार स्थापित करने के लिए ब्याजमुक्त ऋण देने की योजना लागू गई है। इसमें दस हजार रुप्ये चुकाने पर दूसरे चरण में बीस हजार और फिर पचास हजार रुपये तक ऋण स्वीकृत करने का प्रविधान है। दूसरे चरण के क्रियान्वयन में भी मध्य प्रदेश देश में अव्वल है। इसके अलावा सरकार ने अपनी ओर से मुख्यमंत्री ग्रामीण पथ विक्रेताओं के लिए योजना लागू की है। इसमें भी सरकार बैंक से अपनी गारंटी पर ब्याजमुक्त ऋण उपलब्ध करा रही है।